Class 9 Geography Chapter 4 Notes

Class 9 Geography Chapter 4 Notes CLIMATE

CBSE Class 9 Geography Chapter 4 Notes CLIMATE in this step-by-step answer guide. In some of State Boards and CBSE schools, students are taught thru NCERT books. As the chapter comes to an end, students are requested few questions in an exercising to evaluate their expertise of the chapter. Students regularly want guidance managing those NCERT Class 9 Geography Chapter 4 Notes CLIMATE.

It’s most effective natural to get stuck withinside the exercises while solving them so that you can assist students score higher marks, we’ve provided step by step NCERT answers for all exercises of Class nine Social Science CLIMATE. so you can are looking for assist from them. Students should solve those exercises carefully as questions withinside the final exams are requested from those, so these exercises immediately have an impact on students’ final score. Find all NCERT Notes for Class nine Social Science CLIMATE below and prepare in your tests easily

CHAPTER 4

CLIMATE

  1. Climate refers to the sum total of weather conditions and variations over a large area for a long period of time (more than thirty years).
  2. Weather refers to the state of the atmosphere over an area at any point of time.

The elements of weather and climate are the same. i.e. temperature, atmospheric pressure, wind, humidity and precipitation.

The climate of India is described as the ‘Mansoon’. In Asia, this type of climate is found mainly in the south and the southeast coast gets a large portion of its rain during October and November.

There is decrease in rainfall generally from east to west in the Northern Plains.

Climatic Controls

  1. There are six major controls of the climate of any place.
  2. They are latitude altitude, pressure and wind system, distance from the sea (continentality), ocean currents and relief features.

Latitude

  1. Due to the curvature of the earth, the amount of solar energy received varies according to latitude.
  2. As a result, air temperature generally decreases from the equator towards the poles

Altitudes

  1. As one goes from the surface of the earth to higher altitudes, the atmosphere becomes less dense and temperature decreases.
  2. The hills are therefore cooler during summers.

The pressure and wind

  1. The pressure and wind system of any area depend on the latitude and altitude of the place.
  2. Thus it influences the temperature and rainfall pattern.

The Distance from the Sea

  1. The sea exerts a moderating influence on climate: as the distance from the sea increases, its moderating influence decreases and the people experience extreme weather conditions.
  2. This condition is known as continentality.

Ocean Currents

  1. Ocean currents along with onshore winds affect the climate of the coastal areas.
  2. Any coastal area with warm or cold currents flowing past it will be warmed or cooled if the winds are onshore.

Relief

  1. Relief too plays a major role in determining the climate of a place.
  2. High mountains act as barriers for cold or hot winds: they may also cause precipitation if they are high enough and lie in the path of rain-bearing winds.
  3. The leeward side of mountains remains relatively dry.

Factors Affecting India’s Climate

Latitude

  1. The Tropic of Cancer passes through the middle of the country from the Rann of Kuchchh in the west of Mizoram in the east.
  2. Half of the country, lying south of the Tropic of Cancer belongs to the tropical area.
  3. Therefore, India’s climate has characteristics of tropical as well as subtropical climates.

Altitude

  1. India has mountains to the north, which have an average heights of about 6000 metres.
  2. India also has a vast coastal area where the maximum elevation is about 30 metres.
  3. The Himalayas prevent the cold winds from Central Asia from entering the subcontinent.

Pressure and Winds

  • Pressure and surface winds
  • Upper air circulation
  • Western cyclonic disturbances and tropical cyclones

India lies in the region of north easterly winds. These winds originate from the subtropical high-pressure belt of the northern hemisphere.

Coriolis Force

  1. They blow south get deflected to the right due to the Cariolis force, and move on towards the equatorial low pressure area.
  2. These winds carry very little moisture as they originate and blow over land. Therefore, they bring little or no rain.

High Pressure & Low Pressure

  • During winter, There is a high-pressure area north of the Himalayas, Cold dry winds blow from this region to the low-pressure areas over the oceans to the south.
  • In Summer, A low-pressure area develops over interior Asia as well as over northwestern India.
  • Air moves from the high-pressure area over he southern Indian Ocean, in a south-easterly direction crosses the equator and turns right towards the low-pressure areas over the Indian subcontinent.
  • These are known as the Southwest Monsoon winds.
  • These winds blow over the warm oceans gather moisture and bring widespread rainfall over the mainland of India.

Jet Stream

  1. These jet streams are located approximately over 27° -30° north latitude, therefore they are known as subtropical westerly jet streams.
  2. Over India, these jet streams blow south of the Himalayas, all through the year except in summer.
  3. An easterly jet stream, called the sub-tropical easterly jet stream blows over peninsular India, approximately over 14°N during the summer months.

The Indian Monsoon

  1. The climate of India is strongly influenced by monsoon winds.
  2. The Arabs, who had also come to India as traders named this seasonal reversal of the wind system monsoon.

The monsoons are experienced in the tropical area roughly between 20° N and 20° S.

  1. The differential heating and cooling of land and water.
  2. The shift of the position of Inter Tropical Convergence Zone. It is also known as the monsoon through during the monsoon season.
  3. The presence of the High-pressure area, east of Madagascar.
  4. The Tibetan plateau gets intensely heated.
  5. The movement of the westerly jet stream to the north of the Himalayas and the presence of the tropical easterly jet stream over the Indian peninsula.

Southern Oscillation

Normally when the tropical eastern South Pacific Ocean experiences high pressure, the tropical eastern Indian ocean experiences low pressure, but in certain years there is a reversal in the pressure conditions and the eastern Pacific has lower pressure in comparison to the eastern Indian ocean. This periodic change in pressure conditions is known as the Southern Oscillation.

EL Nino:

  1. E1 Nino is a Spanish word meaning the child, and refers to the baby Christ as this current starts flowing during Christmas.
  2. The presence of the E1 Nino leads to an increase in sea-surface temperatures and weakening of the trade winds in the region.

The onset of the Monsoon and Withdrawal

The duration of the monsoon is between 100-120 days from early June to Mid-September. Around the time of its arrival, the normal rainfall increases suddenly ad continues constantly for several days This is known as the ‘burst’ of the monsoon.

Arrival of Monsoon in different part of India

The monsoon arrives at the southern tip of the Indian peninsula generally by the first week of June.

Subsequently it proceeds into two-the Arabian sea branch and the Bay of Bengal branch.

  1. The Arabian Sea branch reaches Mumbai about ten days later on approximately the 10th of June.
  2. The Bay of Bengal branch also advances rapidly and arrives in Assam in the first week of June.
  3. The lofty mountains causes the monsoon winds to deflect towards the west over the Ganga plains.
  4. By mid-June the Arabian Sea branch of the monsoon arrives over Saurashtra-Kuchchh and the central part of the country.
  5. The Arabian Sea and the Bay of Bengal branches of the monsoon merge over the northwestern part of the Ganga plains.
  6. Delhi generally received the monsoon showers from the Bay of Bengal branch by the end of June tentative date is 29th of June.
  7. By the first week of July western Uttar Pradesh, Punjab, Haryana and eastern Rajasthan experience the monsoon.
  8. By mid-July, the monsoon reaches Himachal Pradesh and the rest of the country.

Withdrawal of the Monsoon

  1. The withdrawal of the monsoon begins in northwestern of the monsoon begins in September.
  2. By mid-October, it withdraws completely from the northern half of the peninsula.
  3. The withdrawal from the southern half of the peninsula is fairly rapid.
  4. By early December, the monsoon has withdrawn from the rest of the country.

The Seasons

Four main seasons can be identified in India – the cold weather season the hot weather season, the advancing monsoon and the retreating monsoon wit some regional variations.

The Cold Weather Season (Winter)

  • The cold weather season begins from mid-November in northern India and stave till February.
  • December and January are the coldest months in the northern part of India.
  • The temperature decreases from south to the north.
  • The average temperature of Chennai, on the eastern coast, is between 24°  –  25°  Celsius, while in the northern plains, it ranges between 10°-15° Celsius.
  • Days are warm and nights are cold.
  • Frost is common in the north and the higher slopes of the Himalayas experience snowfall.
  • Winter rainfall locally known as ‘mahawat’ is small, they are of immense importance for the cultivation of rabi crops.
  • The peninsular region does not have a well-defined cold season.
  • There is hardly any noticeable seasonal change in temperature pattern during winters due to the moderating influence of the sea.

The Hot Weather Season (Summer)

  • Due to the apparent northward movement of the sun, the global heat belt shifts northward.
  • As such, from March to May it is hot weather season in India.
  • In March the highest temperature is about 38° Celsius, recorded on the Deccan plateau.
  • In April, temperatures in Gujarat and Madhya Pradesh are around 42° Celsius.
  • In May, temperature of 45° Celsius is common in the India.
  • In peninsular India temperatures remain lower due to the moderating influence of the oceans.
  • Towards the end of May, an elongated low-pressure area develops in the region extending from the Thar Desert in the northwest to Patna and Chotanagpur plateau in the east and southeast.
  • A striking feature of the hot weather season is the ‘loo’. These are strong, gusty, hot , dry winds blowing during the day over the north and northwestern India.
  • Dust storms are very common during the month of May in northern India.
  • These storms bring temporary relief as they lower the temperature and may bring light rin and cool breeze.
  • This is also the season for localized thunderstorms, associated with violent winds, torrential downpours, often accompanied by hail.
  • In West Bengal, these storms are known as the ‘Kaal Baisakhi’.
  • Towards the close of the summer season, pre-monsoon showers are common especially, in Kerala and Karnataka.
  • They help in the early ripening of mangoes, and are often referred to as ‘mango showers’.

Advancing Monsoon (The Rainy Season)

  • These south-east trade winds originate over the warm subtropical areas of the southern oceans.
  • They cross the equator and blow in a south-westerly direction entering the Indian peninsula as the south-west monsoon.
  • The monsoon winds cover the country in about a month.
  • The maximum rainfall of this season is received in the north-eastern part of the country.
  • Mawsynram in the southern ranges of the Khasi Hills receives the highest average rainfall in the world
  • Rainfall in the Ganga valley decreases from the east to the west.
  • Another phenomenon associated with the monsoon is its tendency to have ‘breaks’ in rainfall.
  • In other words, the monsoon rains take place only for a few days at a time.
  • These breaks in monsoon are related to the movement of the monsoon trough.
  • The trough and its axis keep on moving northward or southward which determines the spatial distribution of rainfall.
  • The frequency and intensity of tropical depressions too, determine the amount and duration of monsoon rains.
  • These depressions form at the head of the Bay of Bengal and cross over to the mainland.
  • The monsoon is known for its uncertainties.
  • The alternation of dry and wet spells vary in intensity frequency and duration.
  • It causes heavy floods in one part, it may be responsible for droughts in the other.

Retreating/Post Monsoons (the Transition Season)

  1. During October-November with apparent movement of the sun towards the south, the monsoon trough or the low pressure through over the northern plains becomes weaker.
  2. This is gradually replaced by a high pressure system.
  3. The south-west monsoon winds weaken and start withdrawing gradually.
  4. By the beginning of October, the monsoon withdraws from the Northern Plains.
  5. The months of October-November form a period of transition from hot rainy season to dry winter conditions.
  6. The retreat of the monsoon is marked by clear skies and rise in temperature.
  7. While day temperatures are high, nights are cool and pleasant.
  8. Owing to the conditions of high temperature and humidity, the weather becomes rather oppressive during the day.
  9. This is commonly known as ‘October heat. In the second half of October, the mercury begins to fall rapidly in northern India.
  10. The bulk of the rainfall of the Coromandel coast is derived from depressions and cyclones.

Distribution of Rainfall

  1. Parts of western coast and northeastern India receive over about 400 cm of rainfall annually.
  2. It is less than 60 cm in western Rajasthan and adjoining parts of Gujarat, Haryana and Punjab.
  3. Rainfall is equally low in the interior of the Deccan plateau, and east of the Sahyadris.
  4. A third area of low precipitation is around Leh in Jammu and Kashmir.
  5. The rest of the country receives moderate rainfall. Snowfall is restricted to the Himalayan region.
  6. Owing to the nature of monsoons, the annual rainfall is highly variable from year to year.
  7. Variability is high in the regions of low rainfall such as parts of Rajasthan, Gujarat and the leeward side of the Western Ghats.

Monsoon as a Unifying Bond

Himalayas protect the subcontinent from extremely cold winds from central Asia. The peninsular plateau, under the influence of the sea from three sides, has moderate temperatures.

  1. Nevertheless, the unifying influence of the monsoon on the Indian subcontinent is quite perceptible.
  2. The seasonal alteration of the wind systems and the associated weather conditions provide a rhythmic cycle of seasons.
  3. Even the uncertainties of rain and uneven distribution are very much typical of the monsoons.
  4. The Indian landscape, its animal and plant life. Its entire agricultural calendar and the life of the people, including their festivities, revolve around this phenomenon.
  5. Year after year people of India from north to south and from east to west, eagerly await the arrival of the monsoon.
  6. These monsoon winds bind the whole country by providing water to set the agricultural activities in motion.

जलवायु

  • एक विशाल क्षेत्र में लंबे समयावधि ( 30 वर्ष अधिक ) में मौसम की अवस्थाओं तथा विविधताओं का कुल योग ही जलवायु है ।
  • मौसम एक विशेष एक क्षेत्र के वायुमंडल की अवस्था को बताता है ।
  • मौसम तथा जलवायु के तत्त्व , जैसे तापमान , वायुमंडलीय दाब , पवन , आर्द्रता तथा वर्षण एक ही होते हैं ।
  • भारत की जलवायु को मानसूनी जलवायु कहा जाता है ।
  • एशिया में इस प्रकार की जलवायु मुख्यतः दक्षिण तथा दक्षिण – पूर्व में पाई जाती है ।

जलवायवी नियंत्रण

  • किसी भी क्षेत्र की जलवायु को नियंत्रित करने वाले प्रमुख कारक हैं- अक्षांश , तुंगता ( ऊँचाई ) , वायुदाब एवं पवन तंत्र , समुद्र से दूरी , महासागरीय धाराएँ तथा उच्चावच लक्षण ।

अक्षांशों

  1. पृथ्वी की गोलाई के कारण इसे प्राप्त सौर ऊर्जा की मात्रा अक्षांशों के अनुसार अलग – अलग होती है ।
  2. इसके परिणामस्वरूप तापमान विषुवत वृत्त से ध्रुवों की ओर सामान्यतः घटता जाता है ।

ऊँचाई

  1. जब कोई व्यक्ति पृथ्वी की सतह से ऊँचाई की ओर जाता है , तो वायुमंडल की सघनता कम हो जाती है तथा तापमान घट जाता है ।
  2. इसलिए पहाड़ियाँ गर्मी के मौसम में भी ठंडी होती हैं ।

वायु दाब एवं पवन तंत्र

  1. किसी भी क्षेत्र का वायु दाब एवं पवन तंत्र उस स्थान के अक्षांश तथा ऊँचाई पर निर्भर करती है ।
  2. इस प्रकार यह तापमान एवं वर्षा के वितरण को प्रभावित करता है ।

समुद्र से दूरी

  1. समुद्र का जलवायु पर समकारी प्रभाव पड़ता है , जैसे – जैसे समुद्र से दूरी बढ़ती है यह प्रभाव कम होता जाता है एवं लोग विषम मौसमी अवस्थाओं को महसूस करते हैं ।
  2. इसे महाद्वीपीय अवस्था ( गर्मी में बहुत अधिक गर्म एवं सर्दी में बहुत अधिक ठंडा ) कहते हैं ।

महासागरीय धाराएँ

  1. महासागरीय धाराएँ समुद्र से तट की ओर चलने वाली हवाओं के साथ तटीय क्षेत्रों की जलवायु को प्रभावित करती हैं ।
  2. उदाहरण के लिए , कोई भी तटीय क्षेत्र जहाँ गर्म या ठंडी जलधाराएँ बहती हैं और वायु की दिशा समुद्र से तट की ओर हो , तब वह तट गर्म या ठंडा हो जाएगा ।

उच्चावच लक्षण

  1. किसी स्थान की जलवायु को निर्धारित करने में उच्चावच की भी महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है ।
  2. ऊँचे पर्वत ठंडी अथवा गर्म वायु को अवरोधित करते हैं ।
  3. यदि उनकी ऊँचाई इतनी ही कि वे वर्षा लाने वाली वायु के रास्तों को रोकने में सक्षम होते हैं , तो ये उस क्षेत्र में वर्षा कारण भी बन सकते हैं ।
  4. पर्वतों के पवनविमुख ढाल पक्षाकृत सूखे रहते हैं ।

भारत की जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक

अक्षांश

  1. कर्क वृत्त देश के मध्य भाग , पश्चिम में कच्छ के रन से लेकर पूर्व में मिजोरम से होकर गुजरती है ।
  2. देश का लगभग आधा भाग कर्क वृत्त के दक्षिण में स्थित है , जो उष्ण कटिबंधीय क्षेत्र है ।
  3. भारत की जलवायु में उष्ण कटिबंधीय जलवायु एवं उपोष्ण कटिबंधीय जलवायु दोनों की विशेषताएँ उपस्थित हैं ।

 

ऊँचाई

  1. ऊँचाई भारत के उत्तर में हिमालय पर्वत है । इसकी औसत ऊँचाई लगभग 6,000 मीटर है ।
  2. भारत का तटीय क्षेत्र भी विशाल है , जहाँ अधिकतम ऊँचाई लगभग 30 मीटर है ।
  3. हिमालय मध्य एशिया से आने वाली ठंडी हवाओं को भारतीय उपमहाद्वीप में प्रवेश करने से रोकता है ।

 

वायु दाब एवं पवन

भारत में जलवायु तथा संबंधित मौसमी अवस्थाएँ निम्नलिखित वायुमंडलीय अवस्थाओं से संचालित होती हैं :

  • वायु दाब एवं धरातलीय पवनें
  • ऊपरी वायु परिसंचरण
  • पश्चिमी चक्रवाती विक्षोभ एवं उष्ण कटिबंधीय चक्रवात

 

वायु दाब एवं धरातलीय पवनें

निम्न दाब और उच्च दाब
  • शीत ऋतु में , हिमालय के उत्तर में उच्च दाब होता है ।
  • इस क्षेत्र की ठंडी शुष्क हवाएँ दक्षिण में निम्न दाब वाले महासागरीय क्षेत्र के ऊपर बहती हैं ।
  • ग्रीष्म ऋतु में , आंतरिक एशिया एवं उत्तर पूर्वी भारत के ऊपर निम्न दाब का क्षेत्र उत्पन्न हो जाता है ।
  • वायु दक्षिण में स्थित हिंद महासागर के उच्च दाब वाले क्षेत्र से दक्षिण – पूर्वी दिशा में बहते हुए विषुवत् वृत्त को पार कर दाहिनी ओर मुड़ते हुए भारतीय उपमहाद्वीप पर स्थित निम्न दाब की ओर बहने लगती हैं ।
  • इन्हें दक्षिण – पश्चिम मानसून पवनों के नाम से जाना जाता है ।
  • ये पवनें कोष्ण महासागरों के ऊपर से बहती हैं , नमी ग्रहण करती हैं तथा भारत की मुख्य भूमि पर वर्षा करती हैं ।
ऊपरी वायु परिसंचरण
  • इस प्रदेश में , ऊपरी वायु परिसंचरण पश्चिमी प्रवाह के प्रभाव में रहता है । इस प्रवाह का एक मुख्य घटक जेट धारा है ।
  • जेट धाराएँ लगभग 27 से 30 ° उत्तर अक्षांशों के बीच स्थित होती हैं , इसलिए इन्हें उपोष्ण कटिबंधीय पश्चिमी जेट धाराएँ कहा जाता है ।
  • भारत में , ये जेट धाराएँ ग्रीष्म ऋतु को छोड़कर पूरे वर्ष हिमालय के दक्षिण में प्रवाहित होती हैं ।
  • एक पूर्वी जेट धारा जिसे उपोष्ण कटिबंधीय पूर्वी जेट धारा कहा जाता है गर्मी के महीनों में प्रायद्वीपीय भारत के ऊपर लगभग 14 ° उत्तरी अक्षांश में प्रवाहित होती है ।
पश्चिमी चक्रवाती विक्षोभ एवं उष्ण कटिबंधीय चक्रवात
  • पश्चिमी प्रवाह के द्वारा देश के उत्तर एवं उत्तर पश्चिमी भाग में पश्चिमी चक्रवाती विक्षोभ आते हैं ।
  • गर्मियों में सूर्य की आभासी गति के साथ ही उपोष्ण कटिबंधीय पश्चिमी जेट धारा हिमालय के उत्तर में चली जाती है ।

भारतीय मानसून

  • भारत की जलवायु मानसूनी पवनों से बहुत अधिक प्रभावित है ।
  • अरबवासी जो व्यापारियों की तरह भारत आए थे उन लोगों ने पवन तंत्र के इस मौसमी उत्क्रमण को मानसून का नाम दिया ।
  • मानसून का आगमन मानसून का प्रभाव उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में लगभग 20 ° उत्तर एवं 20 दक्षिण के बीच रहता है ।

मानसून की प्रक्रिया को समझने के लिए निम्नलिखित तथ्य महत्त्वपूर्ण हैं

( अ ) स्थल तथा जल के गर्म एवं ठंडे होने की विभेदी प्रक्रिया के कारण भारत के स्थल भाग पर निम्न दाब का क्षेत्र उत्पन्न होता है , जबकि इसके आस – पास के समुद्रों के ऊपर उच्च दाब का क्षेत्र बनता है ।

( ब ) ग्रीष्म ऋतु के दिनों में अंत : उष्ण कटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र की स्थिति गंगा के मैदान की ओर खिसक जाती है ( यह विषुवतीय गर्त है , जो प्रायः विषुवत् वृत्त से 5 ° उत्तर में स्थित होता है । इसे मानसून ऋतु में मानसून गर्त के नाम से भी जाना जाता है । )

( स ) हिंद महासागर में मेडागास्कर के पूर्व लगभग 20 ° दक्षिण अक्षांश के ऊपर उच्च दाब वाला क्षेत्र होता है । इस उच्च दाब वाले क्षेत्र की स्थिति एवं तीव्रता भारतीय मानसून को प्रभावित करती है ।

( द ) ग्रीष्म ऋतु में तिब्बत का पठार बहुत अधिक गर्म हो जाता है , जिसके परिणामस्वरूप पठार के ऊपर समुद्र तल से लगभग 9 कि ० मी ० की ऊँचाई पर तीव्र ऊर्ध्वाधर वायु धाराओं एवं उच्च दाब का निर्माण होता है ।

(य ) ग्रीष्म ऋतु में हिमालय के उत्तर – पश्चिमी जेट धाराओं का तथा भारतीय प्रायद्वीप के ऊपर उष्ण कटिबंधीय पूर्वी जेट धाराओं का प्रभाव होता है ।

दक्षिणी दोलन

  • जब दक्षिण प्रशांत महासागर के उष्ण कटिबंधीय पूर्वी भाग में उच्च दाब होता है तब हिंद महासागर के उष्ण कटिबंधीय पूर्वी भाग में निम्न दाब होता है
  • कुछ विशेष वर्षो में वायु दाब की स्थिति विपरीत हो जाती है तथा पूर्वी प्रशांत महासागर के ऊपर हिंद महासागर की तुलना में निम्न दाब का क्षेत्र बन जाता है ।
  • दाब की अवस्था में इस नियतकालिक परिवर्तन को दक्षिणी दोलन के नाम से जाना जाता है ।

मानसून का आगमन एवं वापसी

  • मानसून का समय जून के आरंभ से लेकर मध्य सितंबर तक 100 से 120 दिनों के बीच होता है ।
  • इसके आगमन के समय सामान्य वर्षा में अचानक वृद्धि हो जाती है तथा लगातार कई दिनों तक यह जारी रहती है ।
  • इसे मानसून प्रस्फोट ( फटना ) कहते हैं तथा इसे मानसून पूर्व बौछारों से पृथक किया जा सकता है ।

मानसून का आगमन

  • सामान्यतः जून के प्रथम सप्ताह में मानसून भारतीय प्रायद्वीप के दक्षिणी छोर से प्रवेश करता है ।
  • इसके बाद यह दो भागों में बँट जाता है अरब सागर शाखा एवं बंगाल की खाड़ी शाखा अरब सागर शाखा लगभग दस दिन बाद , 10 जून के आस – पास मुंबई पहुँचती है ।
  • बंगाल की खाड़ी शाखा भी तीव्रता से आगे की ओर बढ़ती है तथा जून के प्रथम सप्ताह में असम पहुँच जाती है ।
  • ऊँचे पर्वतों के कारण मानसून पवनें पश्चिम में गंगा के मैदान की मुड़ है ।
  • मध्य जून तक अरब सागर शाखा सौराष्ट्र , कच्छ एवं देश के मध्य भागों में पहुँच जाती है ।
  • अरब सागर शाखा एवं बंगाल की खाड़ी शाखा , दोनो गंगा के मैदान के उत्तर पश्चिम भाग में आपस में मिल जाती हैं ।
  • दिल्ली में सामान्यतः मानसूनी वर्षा बंगाल की खाड़ी शाखा से जून के अंतिम सप्ताह में ( लगभग 29 जून तक ) होती है ।
  • जुलाई के प्रथम सप्ताह तक मानसून पश्चिमी उत्तर प्रदेश , पंजाब , हरियाणा तथा पूर्वी राजस्थान में पहुँच जाता है ।
  • मध्य जुलाई तक मानसून हिमाचल प्रदेश एवं देश के शेष हिस्सों में पहुँच जाता है ।
  • मानसून की वापसी एक क्रमिक प्रक्रिया है जो भारत के उत्तर – पश्चिमी राज्यों से सितंबर में प्रारंभ हो जाती है ।
  • मध्य अक्तूबर तक मानसून प्रायद्वीप के उत्तरी भाग से पूरी तरह पीछे हट जाता है ।
  • प्रायद्वीप के दक्षिणी आधे भाग में वापसी की गति तीव्र होती है ।
  • दिसंबर के प्रारंभ तक देश के शेष भाग से मानसून की वापसी हो जाती है ।

ऋतुएँ

  • भारत में मुख्यतः चार ऋतुओं को पहचाना जा सकता है ।
  • ये हैं , शीत ऋतु . ग्रीष्म ऋतु , कुछ क्षेत्रीय विविधताओं के साथ मानसून के आगमन तथा वापसी का काल ।

 

शीत ऋतु

  • उत्तरी भारत में शीत ऋतु मध्य नवंबर से आरंभ होकर फरवरी तक रहती है ।
  • भारत के उत्तरी भाग में दिसंबर एवं जनवरी सबसे ठंडे महीने होते हैं ।
  • तापमान दक्षिण से उत्तर की ओर बढ़ने पर घटता जाता है ।
  • पूर्वी तट पर चेन्नई का औसत तापमान 24 ° सेल्सियस से 25 ° सेल्सियस के बीच होता है , जबकि उत्तरी मैदान में यह 10 ° सेल्सियस से 15 ° सेल्सियस के बीच होता है ।
  • दिन गर्म तथा रातें ठंडी होती हैं ।
  • उत्तर में तुषारापात सामान्य है तथा हिमालय के उपरी ढालों पर हिमपात होता है ।
  • शीतकाल में वर्षा , जिसे स्थानीय तौर पर ‘ महावट ‘ कहा जाता है , की कुल मात्रा कम होती है , लेकिन ये रबी फसलों के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण होती है ।
  • प्रायद्वीपीय भागों में शीत ऋतु स्पष्ट नहीं होती है ।
  • समुद्री पवनों के प्रभाव के कारण शीत ऋतु में भी यहाँ तापमान के प्रारूप में न के बराबर परिवर्तन होता है ।

 

ग्रीष्म ऋतु

  • सूर्य के उत्तर की ओर आभासी गति के कारण भूमंडलीय ताप पट्टी उत्तर की तरफ खिसक जाती है ।
  • मार्च से मई तक भारत में ग्रीष्म ऋतु होती है ।
  • मार्च में दक्कन के पठार का उच्च तापमान लगभग 38 ° सेल्सियस होता है ।
  • अप्रैल में मध्य प्रदेश एवं गुजरात का तापमान लगभग 42 ° सेल्सियस होता है ।
  • मई में देश के उत्तर पश्चिमी भागों का तापमान समान्यतः 45 ° सेल्सियस होता है ।
  • प्रायद्वीपीय भारत में समुद्री प्रभाव के कारण तापमान कम होता है ।
  • मई के अंत में , उत्तर पश्चिम में थार के रेगिस्तान से लेकर पूर्व एवं दक्षिण – पूर्व में पटना तथा छोटा नागपुर पठार तक एक कम दाब का लंबवत क्षेत्र उत्पन्न होता है ।
  • लू . ग्रीष्मकाल का एक प्रभावी लक्षण है । ये धूल भरी गर्म एवं शुष्क पवनें होती हैं , जो कि दिन के समय भारत के उत्तर एवं उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों में चलती हैं ।
  • उत्तरी भारत में मई महीने के दौरान सामान्यत : धूल भरी आँधियाँ आती हैं ।
  • ये आँधियाँ अस्थायी रूप से आराम पहुँचाती हैं , क्योंकि ये तापमान को कम कर देती हैं तथा अपने साथ ठंडे समीर एवं हल्की वर्षा लाती हैं ।
  • इस मौसम में कभी – कभी तीव्र हवाओं के साथ गरज वाली मूसलाधार वर्षा भी होती हैं , इसके साथ प्रायः हिम वृष्टि भी होती है ।
  • वैशाख के महीने में होने के कारण पश्चिम बंगाल में इसे ‘ काल वैशाखी ‘ कहा जाता है ।
  • ग्रीष्म ऋतु के अंत में कर्नाटक एवं केरल में प्रायः पूर्व मानसूनी वर्षा होती है ।
  • इसके कारण आम जल्दी पक जाते हैं तथा प्रायः इसे ‘ आम्र वर्षा ‘ भी कहा जाता है ।

 

वर्षा ऋतु या मानसून का आगमन

  • जून के प्रारंभ में उत्तरी मैदानों में निम्न दाब की अवस्था तीव्र हो जाती है ।
  • ये दक्षिण – पूर्व व्यापारिक पवनें , दक्षिणी समुद्रों के उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में उत्पन्न होती हैं ।
  • चूँकि , ये पवनें गर्म महासागरों के ऊपर से होकर गुजरती हैं , इसलिए ये अपने साथ इस महाद्वीप में बहुत अधिक मात्रा में नमी लाती हैं ।
  • उत्तर – पूर्वी भाग को छोड़कर ये मानसूनी पवनें देश के शेष भाग में लगभग 1 महीने में पहुँच जाती हैं ।
  • दक्कन का पठार एवं मध्य प्रदेश के कुछ भाग में भी वर्षा होती हैं , ये क्षेत्र वृष्टि छाया क्षेत्र में आते हैं ।
  • इस मौसम की अधिकतर वर्षा देश के उत्तर – पूर्वी भागों में होती है ।
  • खासी पहाड़ी के दक्षिणी श्रृंखलाओं में स्थित मासिनराम विश्व में सबसे अधिक औसत वर्षा प्राप्त करता है ।
  • गंगा की घाटी में पूर्व से पश्चिम की ओर वर्षा की मात्रा घटती जाती है ।
  • मानसून से संबंधित एक अन्य परिघटना है , ‘ वर्षा में विराम ‘ ।
  • दूसरे शब्दों में मानसूनी वर्षा एक समय में कुछ दिनों तक ही होती है ।
  • मानसून में आने वाले ये विराम मानसूनी गर्त की गति से संबंधित होते हैं ।
  • गर्त एवं इसका अक्ष उत्तर या दक्षिण की ओर खिसकता रहता है , जिसके कारण वर्षा का स्थानिक वितरण सुनिश्चित होता है ।
  • उष्ण कटिबंधीय निम्न दाब की तीव्रता एवं आवृत्ति भी मानसूनी वर्षा की मात्रा एवं समय को निर्धारित करती है ।
  • यह निम्न दाब का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी के ऊपर बनता है तथा मुख्य स्थलीय भाग को पार कर जाता है ।
  • मानसून को इसकी अनिश्चितता के लिए जाना जाता है ।
  • शुष्क एवं आर्द्र स्थितियों की तीव्रता , आवृत्ति एवं समय काल में भिन्नता होती है ।
  • इसके कारण यदि एक भाग में बाढ़ आती है तो दूसरे भाग में सूखा पड़ता है ।

 

मानसून की वापसी ( परिवर्तनीय मौसम )

  • अक्तूबर – नवंबर के दौरान दक्षिण की तरफ सूर्य के आभासी गति के कारण मानसून गर्त या निम्न दाब वाला गर्त , उत्तरी मैदानों के ऊपर शिथिल हो जाता है ।
  • धीरे – धीरे उच्च दाब प्रणाली इसका स्थान ले लेती है ।
  • दक्षिण – पश्चिम मानसून शिथिल हो जाते हैं तथा धीरे – धीरे पीछे की ओर हटने लगते हैं ।
  • अक्तूबर के प्रारंभ में मानसून पवनें उत्तर के मैदान से हट जाती हैं ।
  • अक्तूबर एवं नवंबर का महीना , गर्म वर्षा ऋतु से शीत ऋतु में परिवर्तन का काल होता है ।
  • मानसून की वापसी होने से आसमान साफ एवं तापमान में वृद्धि हो जाती है ।
  • दिन का तापमान उच्च होता है , जबकि रातें ठंडी एवं सुहावनी होती हैं ।
  • उच्च तापमान एवं आर्द्रता वाली अवस्था के कारण दिन का मौसम असा हो जाता है ।
  • इसे सामान्यतः ‘ क्वार की उमस ‘ के नाम से जाना जाता है । अक्तूबर के उत्तरार्द्ध में , विशेषकर उत्तरी भारत में तापमान तेजी से गिरने लगता है ।
  • चक्रवात सामान्यतः भारत के पूर्वी तट को पार करते हैं , जिनके कारण व्यापक एवं भारी वर्षा होती है ।
  • गोदावरी , कृष्णा एवं कावेरी नदियों के सघन आबादी वाले डेल्टा प्रदेशों में अक्सर चक्रवात आते हैं ।
  • ये चक्रवात उड़ीसा , पश्चिम बंगाल एवं बांग्लादेश के तटीय क्षेत्रों में भी पहुँच जाते हैं ।
  • कोरोमंडल तट पर अधिकतर वर्षा इन्हीं चक्रवातों तथा अवदाबों से होती हैं ।

वर्षा का वितरण

  • पश्चिमी तट के भागों एवं उत्तर पूर्वी भारत में लगभग 400 सें.मी. वार्षिक वर्षा होती है किंतु ।
  • पश्चिमी राजस्थान एवं इससे सटे पंजाब , हरियाणा एवं गुजरात के भागों में 60 सें ० मी ० से भी कम वर्षा होती है ।
  • दक्षिणी पठार के आंतरिक भागों एवं सहयाद्री के पूर्व में भी वर्षा की मात्रा समान रूप से कम होती है ।
  • जम्मू – कश्मीर के लेह में भी वर्षण की मात्रा काफी कम होती है ।
  • देश के शेष हिस्से में वर्षा की मात्रा मध्यम रहती है ।
  • हिमपात हिमालयी क्षेत्रों तक ही सीमित होता है ।
  • मानसून की प्रकृति के परिणामस्वरूप एक वर्ष से दूसरे वर्ष होने वाले वार्षिक वर्षा की मात्रा में भिन्नता होती है ।
  • वर्षा की विषमता निम्न वर्षा वाले क्षेत्र जैसे राजस्थान , गुजरात के कुछ भाग तथा पश्चिमी घाटों के वृष्टि छाया प्रदेशों में अधिक पाई जाती है ।

मानसून – एकता का परिचायक

  • हिमालय अत्यंत ठंडी पवनों से भारतीय उपमहाद्वीप की रक्षा करता है ।
  • इसी प्रकार प्रायद्वीपीय पठार में तीनों ओर से समुद्रों के प्रभाव के कारण न तो अधिक गर्मी पड़ती है और न अधिक सर्दी ।
  • भारतीय प्रायद्वीप पर मानसून की एकता का प्रभाव बहुत ही स्पष्ट है ।
  • पवन की दिशाओं का ऋतुओं के अनुसार परिवर्तन तथा उनसे संबंधित ऋतु की दशाएँ ऋतु चक्रों को एक लय प्रदान करती हैं ।
  • वर्षा की अनिश्चितताएँ तथा उसका असमान वितरण मानसून का एक विशिष्ट लक्षण है ।
  • संपूर्ण भारतीय भूदृश्य , इसके जीव तथा वनस्पति , इसका कृषि चक्र , मानव जीवन तथा उनके त्यौहार- उत्सव , सभी इस मानसूनी लय के चारों ओर घूम रहे हैं ।
  • उत्तर दक्षिण तथा पूर्व से पश्चिम तक संपूर्ण भारतवासी प्रति वर्ष के आगमन की प्रतीक्षा करते हैं ।
  • ये मानसूनी मानसू पवनें हमें जल प्रदान कर कृषि की प्रक्रिया में तेजी लाती हैं एवं संपूर्ण देश को एक सूत्र में बाँधती हैं ।

Leave a Comment