Class 9 Geography Chapter 5 Notes

Class 9 Geography Chapter 5 Notes NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE

CBSE Class 9 Geography Chapter 5 Notes NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE in this step-by-step answer guide. In some of State Boards and CBSE schools, students are taught thru NCERT books. As the chapter comes to an end, students are requested few questions in an exercising to evaluate their expertise of the chapter. Students regularly want guidance managing those NCERT Class 9 Geography Chapter 5 Notes NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE.

It’s most effective natural to get stuck withinside the exercises while solving them so that you can assist students score higher marks, we’ve provided step by step NCERT answers for all exercises of Class nine Social Science NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE. so you can are looking for assist from them. Students should solve those exercises carefully as questions withinside the final exams are requested from those, so these exercises immediately have an impact on students’ final score. Find all NCERT Notes for Class nine Social Science NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE below and prepare in your tests easily

CHAPTER 5

NATURAL VEGETATION AND WILDLIFE

  1. Our country India is one of the twelve mega bio-diversity countries of the world.
  2. With about 47000 plant species India occupies tenth place in the world and fourth in Asia in plant diversity.
  3. There are about 15000 flowering plants in India which account for 6 per cent I the world’s total number of flowering plants.
  4. India also has approximately 90000 species of animals as well as a rich variety of fish in its fresh and marine waters.
  5. Natural vegetation refers in a plant community which has grown naturally without human aid and has been left undisturbed by humans for a long time.
  6. This is termed as a virgin vegetation.

The term flora & fauna

  1. The flora is used to denote plants of a particular region or period.
  2. The species of animals are referred to as fauna.

Relief

Land

  1. Land affects the natural vegetation directly and indirectly.
  2. The fertile level is generally devoted to agriculture.
  3. The undulating and rough terrains are areas where grassland and woodlands develop and give shelter to a variety of wild life.

Soil

  1. Different types of soils provide basis for different types of vegetation.
  2. The sandy soils of the desert support cactus and thorny bushes while wet marshy, deltaic soils support mangroves and deltaic vegetation.
  3. The hill slopes with some depth of soil have conical trees.

Climate

Temperature

  1. The character and extent of vegetation are mainly determined by temperature along with humidity in the air, precipitation and soil.
  2. On the slopes of the Himalayas and the hills of the Peninsula above the height of 915 metres.
  3. The fall in the temperature affects the types of vegetation and its growth.

Photoperiod (Sunlight)

  1. The variation in duration of sunlight at different places is due to differences in latitude, altitude, season and duration of the day.
  2. Due to longer duration of sunlight, trees grow faster in summer.

Precipitation

In India almost the entire rainfall is brought in b the advancing southwest monsoon (June to September) and retreating northeast monsoons. Areas of heavy rainfall have more dense vegetation as compared to other areas of less rainfall.

Ecosystem

  1. Plants occur in distinct groups of communities in areas having similar climatic conditions.
  2. The nature of the plants in an area, to a large extent, determines the animal life in that area.
  3. When the vegetation is altered, the animal life also changes.
  4. All the plants and animals in an area are interdependent and interrelated to each other in their physical environment. Thus, forming an ecosystem.
  5. A very large ecosystem on land having distinct types of vegetation and animal life is called a biome.

Types of Vegetation

The following major types of vegetation may be identified in our country.

  1. Tropical Evergreen Forests
  2. Tropical Deciduous Forests
  3. Tropical Thorn Forests and Scrubs
  4. Montane Forests
  5. Mangrove Forests

Tropical Evergreen Forests

  • These forests are restricted to heavy rainfall areas of the Western Ghat and the island groups of Lakshadweep. Andaman and Nicobar, upper parts of Assam and Tamil Nadu coast.
  • They are at their best in areas having more than 200 cm of rainfall with a short dry season.
  • The trees reach great heights up to 60 metres or even above.
  • It has a luxuriant vegetation of all kinds – trees, shrubs, and creepers giving it a multilayered structure.
  • There is no definite time for trees to shed their leaves.
  • Some of the commercially important trees of this forest are ebony, mahogany, rosewood, rubber and cinchona.
  • The common animals found in these forests are elephants, monkey, lemur and deer. The one horned rhinoceros are found in the jungles of Assam and West Bengal.
  • Besides these animals plenty of birds, bats, sloth, scorpions and snails are also found in these jungles.

Tropical Deciduous Forests

  • These are the most widespread forests of India.
  • They are also called the monsoon forests and spread over the region receiving rainfall between 200 cm and 70 cm.
  • Trees of this forest-type shed their leaves for about six to eight weeks in dry summer.
  • These forests exist, therefore, mostly in the eastern part of the country – northeastern states, along the foothills of the Himalayas, Jharkhand, West Orissa and Chhattisgarh, and on the eastern slopes of the Western Ghats.
  • Dominant species of this forest Bamboos, sal, shisham, sandalwood, khair, kusum, arjun, mulberry are other commercially important species.
  • The dry deciduous forests are found in areas having rainfall between 100 cm and 70 cm.
  • These forests are found in the rainier parts of the peninsular plateau and the plains of Bihar and Uttar Pradesh.
  • In these forests, the common animals found are lion, tiger, pig, deer and elephant.
  • A huge variety of birds, lizards, snakes, and tortoises are also found here.

The Thorn Forests and Scrubs

  • In regions with less than 70 cm of rainfall, the natural vegetation consists of thorny trees and bushes.
  • This type of vegetation is found in the north-western part of the country including semi-arid areas of Gujarat, Rajasthan, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Uttar Pradesh and Haryana.
  • Acacias, palms euphorbias and cacti are the main plant species.
  • Trees are scattered and have long roots penetrating deep into the soil in order to get moisture.
  • The stems are succulent to conserve water.
  • Leaves are mostly thick and small to minimize evaporation.

Montane Forests

  1. In mountainous areas, the decrease in temperature with increasing altitude leads to the corresponding change in natural vegetation.
  2. The wet temperate type of forests are found between a height of 1000 and 2000 metres.
  3. Between 1500 and 3000 metres, temperate forests containing coniferous trees like pine, deodar, silver fir, spruce and cedar, are found.
  4. These forests cover mostly the southern slopes of the Himalayas, places having high altitude in southern and north-east India.
  5. At higher elevations, temperate grasslands are common. At high altitudes, generally more than 3600 metres above sea-level, temperate forests and grasslands give way to the Alpine vegetation.
  6. The common animals found in these forests are Kashmir stage, spotted dear, wild sheep, jack rabbit, Tibetan antelope, yak snow leopard, squirrels, Shaggy horn wild ibex, bear and rare red panda, sheep and goats with thick hair.

Mangrove Forests

  1. The mangrove tidal forests are found in the areas of coasts influenced by tides. Mud and silt get accumulated on such coasts.
  2. Dense mangroves are the common varieties with roots of the plants submereged under water.
  3. The deltas of the Ganga, the Mahanadi, the Krishana, the Godavari and the Kaveri are covered by such vegetation.
  4. Palm, coconut, keora agar, also grow in some parts of the delta.
  5. Royal Bengal Tiger is the famous animal in these forests.
  6. Turtles, crocodiles, gharials and snakes are also found in these forests.

Medicinal Plants

The World Conservation Union’s Red list has named 352 medicinal plants of which 52 are critically threatened and 49 endangered.

Wild Life

  1. Like its flora, India is also rich in its fauna.
  2. 90000 of animal species. The country has about 2000 species of birds.
  3. They constitute 13% of the World’s total.
  4. 2546 of the world’s stock.
  5. 12% of the world’s stock.
  6. It also shares between 5 and 8 per cent of the world’s amphibians, reptiles and mammals.

Animals and there Places

  1. The elephants are the most majestic animals among the mammals.
  2. They are found in the hot wet forests of Assam, Karnataka and Kerala.
  3. One-horned rhinoceroses are the other animals, which live in swampy and marshy lands of Assam and West Bengal.
  4. Arid areas of the Rann of Kachchh and the Thar Desert are the habitat for wild ass and camels respectively.
  5. Indian bison, nilgai Blue bull, chousingha (four horned antelope), gazel and different species of deer are some other animals found in India.

Lion, Tiger, Leopards

  1. India is the only country in the world that has both tigers and lions.
  2. The natural habitat of the Indian lion is the Gir forest in Gujarat.
  3. Tigers are found in the forests of Madhya Pradesh, the Sundarbans of West Bengal and the Himalayan region.
  4. Leopards too are members of the cat family.
  5. They are important among animals of prey.

Himalayas Region Animals

Ladakh’s freezing high altitutdes are a home to yak, the shaggy horned wild ox weighing around one tonne, the Tibetan antelope, the bharat (blue sheep), wild sheep, and he kiang (Tibetan wild ass). Furhtermore, the ibex, bear snow-leopard and very rare red panda are found in certain pockets.

The animals were selected from large stock provided by nature as milch animal. They also provided us draught power, transportation, meat, eggs, The fish provide nutritive food. Many insects help in pollination of crops and fruit trees and exert biological control on such insects, which are harmful.

Causes of Major Threat to Flora and Fauna

  1. Due to excessive exploitation of the plants and animal resources by human beings, the ecosystem has been disturbed.
  2. About 1300 plant species are endangered and 20 species are extinct.
  3. Quite a few animal species are also endangered and some have become extinct.

The Main Causes

  1. The main causes for this major threat to nature are hunting by greedy hunters for commercial purposes.
  2. Pollution due to chemical and industrial waste, acid deposits.
  3. Introduction of alien species and reckless cutting of the forests to bring land under cultivation and inhabitation, are also responsible for the imbalance.

Governments Steps to Protect Flora and Fauna

To protect the flora and fauna of the country, the government has taken many steps.

  1. Fourteen biosphere reserves have been set up in the country to protect flora and fauna, 10 out of these, the Sunderbans in the West Bengal, Nanda Devi in Uttarakhand, The Gulf of Mannar in Tamil Nadu and the Nilgiris (Kerala, Karnataka and Tamil Nadu have been included in the world network of Biosphese reserves.
  2. Financial and technical assistance is provided to many Botanical gardens by the government since 1992.
  3. Project Tiger, project Rhino, Project Great Indian Bustard and many other eco development projects have been introduced

प्राकृतिक वनस्पति तथा वन्य प्राणी

  • हमारा देश भारत विश्व के मुख्य 12 जैव विविधता वाले देशों में से एक है ।
  • लगभग 47,000 विभिन्न जातियों के पौधे पाए जाने के कारण यह देश विश्व में दसवें स्थान पर और एशिया के देशों में चौथे स्थान पर है ।
  • भारत में लगभग 15,000 फूलों के पौधे हैं जो कि विश्व में फूलों के पौधों का 6 प्रतिशत है ।
  • भारत लगभग 90,000 जातियों के जानवर तथा विभिन्न प्रकार की में मछलियाँ , ताजे तथा समुद्री पानी की पाई जाती हैं ।
  • प्राकृतिक वनस्पति का अर्थ है कि वनस्पति का वह भाग , जो कि मनुष्य की सहायता के बिना अपने आप पैदा होता है और लंबे समय तक उस पर मानवी प्रभाव नहीं पड़ता ।
  • इसे अक्षत वनस्पति कहते हैं ।

वनस्पति जगत और प्राणि जगत

  • वनस्पति जगत शब्द का अर्थ किसी विशेष क्षेत्र में . किसी समय में पौधों की उत्पत्ति से है ।
  • इस तरह प्राणि जगत जानवरों के विषय में बतलाता है ।

धरातल

भूभाग

  • भूमि का वनस्पति पर प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है ।
  • उपजाऊ भूमि पर प्रायः कृषि की जाती है ।
  • ऊबड़ तथा असमतल भूभाग पर , जंगल तथा घास के मैदान हैं , जिन वन्य प्राणियों को आश्रय मिलता है ।

 

मृदा

  • विभिन्न स्थानों पर अलग – अलग प्रकार की मृदा पाई जाती है , जो विविध प्रकार की वनस्पति का आधार है ।
  • मरुस्थल की बलुई मृदा में कंटीली झाड़ियाँ तथा नदियों के डेल्टा क्षेत्र में पर्णपाती वन पाए जाते हैं ।
  • पर्वतों की ढलानों में जहाँ मृदा की परत गहरी है शंकुधारी वन पाए जाते हैं ।

जलवायु

तापमान

  • वनस्पति की विविधता तथा विशेषताएँ तापमान और वायु की नमी पर भी निर्भर करती हैं ।
  • हिमालय पर्वत की ढलानों तथा प्रायद्वीप के पहाड़ियों पर 915 मी ० की ऊँचाई से ऊपर तापमान में गिरावट वनस्पति के पनपने और बढ़ने को प्रभावित करती है
  • उसे उष्ण कटिबंधीय से उपोष्ण , शीतोष्ण तथा अल्पाइन वनस्पतियों में परिवर्तित करती है ।

 

सूर्य का प्रकाश

  • किसी भी स्थान पर सूर्य के प्रकाश का समय , उस स्थान के अक्षांश , समुद्र तल से ऊँचाई एवं ऋतु पर निर्भर करता है ।
  • प्रकाश अधिक समय तक मिलने के कारण वृक्ष गर्मी की ऋतु में जल्दी बढ़ते हैं ।

 

वर्षण

  • भारत में लगभग सारी वर्षा आगे बढ़ते हुए दक्षिण – पश्चिमी मानसून ( जून से सितंबर तक ) एवं पीछे हटते उत्तर – पूर्वी मानसून से होती है ।
  • अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में कम वर्षा वाले क्षेत्रों की अपेक्षा सघन वन पाए जाते हैं ।

वनस्पति के प्रकार

हमारे देश में निम्न प्रकार की प्राकृतिक वनस्पतियाँ पाई जाती हैं

( i ) उष्ण कटिबंधीय सदाबहार वन

( ii ) उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन

( iii ) उष्ण कटिबंधीय कंटीले वन तथा झाड़ियाँ

( iv ) पर्वतीय वन

( v ) मैंग्रोव वन

उष्ण कटिबंधीय सदाबहार वन

  • उष्ण कटिबंधीय वन पश्चिमी घाटों के अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों , लक्षद्वीप , अंडमान और निकोबार द्वीप समूहों , असम के ऊपरी भागों तथा तमिलनाडु के तट तक सीमित हैं ।
  • ये उन क्षेत्रों में भली – भाँति विकसित हैं जहाँ 200 से ० मी ० से अधिक वर्षा के साथ एक थोड़े समय के लिए शुष्क ऋतु पाई जाती है ।
  • इन वनों में वृक्ष 60 मी ० या अधिक ऊँचाई तक पहुँचते हैं ।
  • यहाँ हर प्रकार की वनस्पति वृक्ष , झाड़ियाँ व लताएँ उगती हैं और वनों में इनकी विभिन्न ऊँचाईयों से कई स्तर देखने को मिलते हैं ।
  • वृक्षों पतझड़ होने का कोई निश्चित समय नहीं होता ।
  • इन वनों में पाए जाने वाले व्यापारिक महत्त्व के कुछ वृक्ष आबनूस ( एबोनी ) , महोगनी , रोजवुड , रबड़ और सिंकोना हैं ।
  • इन वनों में सामान्य रूप से पा , जाने वाले जानवर हाथी , बंदर , लैमूर और हिरण हैं ।
  • एक सींग वाले गैंडे , असम और पश्चिमी बंगाल के दलदली क्षेत्र में मिलते हैं ।

 

उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन

  • ये भारत में सबसे बड़े क्षेत्र में फैले हुए वन हैं ।
  • इन्हें मानसूनी वन भी कहते हैं और ये उन क्षेत्रों में विस्तृत हैं ।
  • जहाँ 70 से ० मी ० से 200 से ० मी ० तक वर्षा होती है ।
  • इस प्रकार के वनों में वृक्ष शुष्क ग्रीष्म ऋतु में छः से आठ सप्ताह के लिए अपनी पत्तियाँ गिरा देते हैं ।
  • वन उन क्षेत्रों में पाए जाते हैं जहाँ 100 से ० मी ० 200 से ० मी ० तक वर्षा होती है ।
  • अतः ऐसे वन देश के पूर्वी भागों , उत्तरी – पूर्वी राज्यों , हिमालय के गिरिपद प्रदेशों , झारखंड , पश्चिमी उड़ीसा , छत्तीसगढ़ तथा पश्चिमी घाटों के पूर्वी ढालों में पाए जाते हैं ।
  • इन वनों की सबसे प्रमुख प्रजाति है । बाँस , साल , शीशम , चंदन , रवैर , कुसुम , अर्जुन तथा शहतूत के वृक्ष व्यापारिक महत्त्व वाली प्रजातियाँ हैं ।
  • शुष्क पर्णपाती वन उन क्षेत्रों में पाए जाते हैं जहाँ वर्षा 70 से ० मी ० से 100 से ० मी ० के बीच होती है ।
  • ये वन प्रायद्वीपीय पठार के ऐसे वर्षा वाले क्षेत्रों , उत्तर प्रदेश तथा बिहार के मैदानों में पाए जाते हैं ।
  • इन जंगलों में पाए जाने वाले जानवर प्रायः सिंह , शेर सूअर , हिरण और हाथी हैं ।
  • विविध प्रकार के पक्षी , छिपकली . साँप और कछुए भी यहाँ पाए जाते हैं ।

 

कंटीले वन तथा झाड़ियाँ

  • जिन क्षेत्रों में 70 से ० मी ० से कम वर्षा होती है , वहाँ प्राकृतिक वनस्पति में कंटीले वन तथा झाड़ियाँ पाई जाती हैं ।
  • इस प्रकार की वनस्पति देश के उत्तरी – पश्चिमी भागों में पाई जाती है जिनमें गुजरात , राजस्थान , छत्तीसगढ़ , मध्य प्रदेश , उत्तर प्रदेश तथा हरियाणा के अर्ध शुष्क क्षेत्र सम्मिलित हैं ।
  • अकासिया खजूर ( पाम ) यूफोरबिया तथा नागफनी ( कैक्टाई ) यहाँ की मुख्य पादप प्रजातियाँ हैं ।
  • इन वनों के वृक्ष बिखरे हुए होते हैं । इनकी जड़े लंबी तथा जल की तलाश में चारों ओर फैली होती हैं ।
  • पत्तियाँ प्रायः छोटी होती हैं जिनसे वाष्पीकरण कम से कम हो सके ।
  • इन जंगलों में प्रायः चूहे खरगोश , लोमड़ी , भेड़िए , शेर सिंह , जंगली गधा , घोड़े तथा ऊँट पाए जाते हैं ।

 

पर्वतीय वन

  • पर्वतीय क्षेत्रों में तापमान की कमी तथा ऊँचाई के साथ – साथ प्राकृतिक वनस्पति में भी अंतर दिखाई देता है ।
  • 1,000 मी ० से 2,000 मी ० तक की ऊँचाई वाले क्षेत्रों में आर्द्र शीतोष्ण कटिबंधीय वन पाए जाते हैं ।
  • 1,500 से 3,000 मी ० की ऊँचाई के बीच शंकुधारी वृक्ष जैसे चीड़ ( पाइन ) , देवदार , सिल्वर – फर , स्प्रूस , सीडर आदि पाए जाते हैं ।
  • ये वन प्रायः हिमालय की दक्षिणी ढलानों , दक्षिण और उत्तर – पूर्व भारत के अधिक ऊँचाई वाले भागों में पाए जाते हैं ।
  • अधिक ऊँचाई पर प्रायः शीतोष्ण कटिबंधीय घास के मैदान पाए जाते हैं ।
  • प्राय : 3600 मी ० से अधिक ऊँचाई पर शीतोष्ण कटिबंधीय वनों तथा घास के मैदानों का स्थान अल्पाइन वनस्पति ले लेती है ।
  • सिल्वर – फर , जूनिपर , पाइन व बर्च इन वनों के मुख्य वृक्ष हैं ।
  • इन वनों में प्रायः कश्मीरी महामृग , चितरा हिरण , जंगली भेड़ , खरगोश , तिब्बतीय बारहसिंघा , याक , हिम तेंदुआ , गिलहरी रीछ , आइबैक्स , कहीं – कहीं लाल पांडा , घने बालों वाली भेड़ तथा बकरियाँ पाई जाती हैं ।

 

मैंग्रोव वन

  • यह वनस्पति तटवर्तीय क्षेत्रों में जहाँ ज्वार – भाटा आते हैं . की सबसे महत्त्वपूर्ण वनस्पति है ।
  • मिट्टी और बालू इन तटों पर एकत्रित हो जाती है ।
  • घने मैंग्रोव एक प्रकार की वनस्पति है जिसमें पौधों की जड़े पानी में डूबी रहती हैं ।
  • गंगा , ब्रह्मपुत्र , महानदी , गोदावरी कृष्णा तथा कावेरी नदियों के डेल्टा भाग में यह वनस्पति मिलती है ।
  • गंगा – ब्रह्मपुत्र डेल्टा में सुंदरी वृक्ष पाए जाते हैं जिनसे मजबूत लकड़ी प्राप्त होती है ।
  • नारियल , ताड़ , क्योड़ा व ऐंगार के वृक्ष भी इन भागों में पाए जाते हैं ।
  • इस क्षेत्र का रॉयल बंगाल टाइगर प्रसिद्ध जानवर है ।
  • इसके अतिरिक्त कछुए , मगरमच्छ , घड़ियाल एवं कई प्रकार के साँप भी इन जंगलों में मिलते हैं ।

वन्य प्राणी

  • वनस्पति की भाँति ही भारत विभिन्न प्रकार की प्राणी संपत्ति भी धनी है ।
  • यहाँ जीवों की लगभग 90,000 प्रजातियाँ मिलती हैं ।
  • देश में लगभग 2,000 से अधिक पक्षियों की प्रजातियाँ पाई जाती हैं । यह कुल विश्व का 13 प्रतिशत है ।
  • यहाँ मछलियों की 2.546 प्रजातियाँ हैं । जो विश्व की लगभग 12 प्रतिशत है ।
  • भारत में विश्व के 5 से 8 प्रतिशत तक उभयचरी , सरीसृप तथा स्तनधारी जानवर भी पाए जाते हैं ।

जानवर और उनके स्थान

  • स्तनधारी जानवरों में हाथी सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है । ये असम , कर्नाटक और केरल के उष्ण तथा आर्द्र वनों में पाए जाते हैं ।
  • एक सींग वाले गैंडे अन्य जानवर हैं जो पश्चिमी बंगाल तथा असम के दलदली क्षेत्रों में रहते हैं ।
  • कच्छ के रन तथा थार मरुस्थल में क्रमश : जंगली गधे तथा ऊँट रहते हैं ।
  • भारतीय भैंसा , नील गाय , चौसिंघा , छोटा मृग ( गैजल ) तथा विभिन्न प्रजातियों वाले हिरण आदि कुछ अन्य जानवर हैं जो भारत में पाए जाते हैं ।
शेर, बाघ, तेंदुआ
  • भारत विश्व का अकेला देश है जहाँ शेर तथा बाघ दोनों पाए जाते हैं ।
  • भारतीय शेरों का प्राकृतिक वास स्थल गुजरात में गिर जंगल है ।
  • बाघ मध्य प्रदेश तथा झारखंड के वनों , पश्चिमी बंगाल के सुंदरवन तथा हिमालयी क्षेत्रों में पाए जाते हैं ।
  • बिल्ली जाति के सदस्यों में तेंदुआ भी है ।

हिमालय क्षेत्र के जानवर

  • लद्दाख की बर्फीली ऊँचाइयों में याक पाए जाते हैं जो गुच्छेदार सींगो वाला बैल जैसा जीव है जिसका भार लगभग एक टन होता है ।
  • तिब्बतीय बारहसिंघा , भारल ( नीली भेड़ ) , जंगली भेड़ तथा कियांग 3 ( तिब्बती जंगली गधे ) भी यहाँ पाए जाते हैं ।
  • कहीं – कहीं लाल पांडा भी कुछ भागों में मिलते हैं ।

वनस्पतियों और जीवों के लिए बड़े खतरे के कारण

  • मनुष्यों द्वारा पादपों और जीवों के अत्यधिक उपयोग के कारण पारिस्थतिक तंत्र असंतुलित हो गया है ।
  • लगभग 1.300 पादप प्रजातियाँ संकट में हैं तथा 20 प्रजातियाँ विनष्ट हो चुकी हैं ।
  • काफी वन्य जीवन प्रजातियाँ भी संकट में हैं और कुछ विनष्ट हो चुकी हैं ।
  • पारिस्थितिक तंत्र के असंतुलन का मुख्य कारण व्यापारियों का अपने व्यवसाय के लिए अत्यधिक शिक करना है ।
  • रासायनिक और औद्योगिक अवशिष्ट तथा तेजाबी जमाव के कारण प्रदूषण , विदेशी प्रजातियों का प्रवेश , कृषि तथा निवास के लिए वनों की अंधाधुन कटाई पारिस्थितिक तंत्र के असंतुलन का कारण हैं ।

वनस्पतियों और जीवों की रक्षा के लिए सरकार के कदम

अपने देश की पादप और जीव संपत्ति की सुरक्षा के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं :

( i ) देश में अठारह जीव मंडल निचय ( आरक्षित क्षेत्र ) स्थापित किए गए हैं । इनमें से दस सुंदरवन , नंदादेवी , मन्नार की खाड़ी , नीलगिरी , नाकरेक , ग्रेट निकोबार , मानस , सिमलीपाल , पंचमढ़ी और अचनकमर – अमरकंटक की गणना विश्व के जीव मंडल निचय में की गई है ।

( ii ) सन् 1992 से सरकार द्वारा पादप उद्यानों को वित्तीय तथा तकनीकी सहायता देने की योजना बनाई है ।

( iii ) शेर संरक्षण , गैंडा संरक्षण , भारतीय भैसा संरक्षण तथा पारिस्थितिक तंत्र के संतुलन के लिए कई योजनाएँ बनाई गई हैं ।

( iv ) 103 नेशनल पार्क , 535 वन्य प्राणी अभयवन और कई चिड़ियाघर राष्ट्र की पादप और जीव संपत्ति की रक्षा के लिए बनाए गए हैं ।

Leave a Comment