NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान - Cbsestudyguru

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान, (हिंदी)परीक्षा में राज्य बोर्ड और सीबीएसई स्कूलों में से कुछ में एनसीईआरटी की किताबों के माध्यम से छात्रों को पढ़ाया जाता है के रूप में अध्याय एक अंत शामिल है, वहां एक अभ्यास के लिए छात्रों को मूल्यांकन के लिए तैयार सहायता प्रदान की है छात्रों को उन अभ्यासों को बहुत अच्छी तरह से स्पष्ट करने की जरूरत है क्योंकि बहुत पिछले उन लोगों से पूछा भीतर सवाल

कई बार, छात्रों के अभ्यास के भीतर अटक जाते है और सवालों के सभी स्पष्ट करने में सक्षम नहीं हैं छात्रों को सभी प्रश्नों को हल करने और अपनी पढ़ाई को संदेह के साथ बनाए रखने में सहायता करने के लिए, हमने सभी कक्षाओं के लिए छात्रों के लिए स्टेप एनसीईआरटी सॉल्यूशंस द्वारा कदम प्रदान किए हैं। इन उत्तरों को इसी तरह छात्रों की सहायता और सवालों का सही जवाब देने के तरीके के रूप में ठीक से सचित्र समाधानों की सहायता से बेहतर अंक स्कोरिंग में छात्रों की मदद मिलेगी

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 8 कन्यादान

पाठ्य-पुस्तक के प्रश्न-अभ्यास

 

प्रश्न 1 . आपके विचार से माँ ने ऐसा क्यों कहा कि लड़की होना पर लड़की जैसी मत दिखाई देना ?

उत्तर – माँ ने ऐसा इसलिए कहा है कि हमारे भारतीय समाज में स्त्रियों के लिए आदर्श आचरण सम्बन्धी प्रतिमान गढ़ लिये जाते हैं । यहाँ आदर्श उसके लिए बंधन बन जाते हैं । इसीलिए माँ कहती है कि लड़कों जैसे गुणों कोमलता , सरलता , विनम्रता सामंजस्य आदि को जरूर अपनाना , पर इसी कोमलता को अपनी कमजोरी मत बनने देना ।

प्रश्न 2. आग रोटियाँ सेंकने के लिए है

जलने के लिए नहीं ।

( क ) इन पंक्तियों में समाज में स्त्री की किस स्थिति की ओर संकेत किया गया है ?

( ख ) माँ ने बेटी को सचेत करना क्यों जरूरी समझा ?

उत्तर( क ) इन पंक्तियों में समाज में स्त्री की निम्न स्थिति की ओर संकेत किया गया है । पुरुष प्रधान समाज में स्त्रियों की सच्चाई को व्यक्त किया गया है । आधुनिकता और प्रगतिशीलता की दौड़ में आगे बढ़ते हुए भारत देश में अभी भी सच्चाई यही है कि दहेज के लिए उन्हें कदम – कदम पर प्रताड़ित किया जाता है । उनके साथ अपने अपने तरीके से लोग अत्याचार करते हैं और कई बार उन्हें जलाकर मार भी दिया जाता है ।

( ख ) माँ बेटी को इसलिए सचेत करना चाहती है क्योंकि स्त्री स्वभाव से कोमल होती है । उसकी यही कोमलता उसकी कमजोरी बन जाती है । माँ सचेत करती हुई कहती है कि बेटी को अपनी कोमलता तथा सरल स्वभाव को छिपाकर रखना है तथा आने समस्याओं और अत्याचारों का सामना करने के लिए उसे पहले से ही तैयार रहना चाहिए ।

प्रश्न 3. पाठिका थी वह धुंधले प्रकाश की

कुछ तुकों और लयबद्ध पंक्तियों की

इन पंक्तियों को पढ़कर लड़की की जो छवि आपके सामने उभरकर आ रही है , उसे शब्दबद्ध कीजिए ।

उत्तर – इन पंक्तियों को पढ़कर हमारे मन में एक ऐसी लड़की की छवि उभरती है जो विवाह के काल्पनिक सुखों में मग्न है । वह सोच रही है कि वह कर ससुराल में जायेगी । उसके पति उसे प्यार करेंगे और सास ससुर उसे पलकों पर बिठायेंगे । सब लोग उसकी प्रशंसा करेंगे तो वह कितनी सुखी होगी , परन्तु उसे घर गृहस्थी के सारे काम निपटाने पड़ेगे । इसकी वह कल्पना भी नहीं करती ।

प्रश्न 4 माँ को अपनी बेटी ‘ अंतिम पूँजी क्यों लग रही थी ?

उत्तर – बेटी और माँ का रिश्ता सबसे निकट का होता है । बेटी , माँ के सुख – दुःख तथा अनेक अन्तरंग क्षणों की साथी होती है । वह माँ की सच्ची मित्र होती है । बेटी के ससुराल जाने पर वह बिल्कुल अकेली हो जायेगी । बेटी माँ की पूँजी की तरह होती है । इसीलिए माँ ने अपनी बेटी को ‘ अन्तिम पूंजी ‘ कहा है ।

प्रश्न 5 . माँ ने बेटी को क्या – क्या सीख दी ?

उत्तर – माँ ने अपनी बेटी को निम्नांकित सीख दी –

( 1 ) माँ ने बेटी से कहा कि कभी भी अपने कोमल सौन्दर्य पर प्रसन्न मत होना ।

( 2 ) बेटी को सामाजिक तथा पारिवारिक अत्याचारों से सचेत करती हुई माँ कहती है कि आग का उपयोग रोटियों सेकने के लिए है उसमें जलने के लिए नहीं , तुम्हें अपने ऊपर होने वाले प्रत्येक अत्याचार का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए ।

( 3 ) आभूषण को बकाबध में प्रमित मत होना क्योंकि यही स्त्री जीवन के बन्धन है ।

( 4 ) माँ ने बेटी से कहा कि लड़की के सरल और कोमल स्वभाव को अपनाना , लेकिन इसी सरलता और कोमलता को अपनी कमजोरी मत बनने देना ।

रचना और अभिव्यक्ति

प्रश्न 6. आपकी दृष्टि में कन्या के साथ दान की बात करना कहाँ तक उचित है ?

उत्तर – कन्या के साथ दान की बात करना उचित नहीं है क्योंकि ‘ दान ‘ वस्तुओं का किया जाता है । जीते – जागते भावनायुक्त जीव का नहीं , हम जब किसी वस्तु का दान देते हैं तब उस पर हमारा अधिकार नहीं रहता जिसे हमने वस्तु दान में दी है वह उस वस्तु का मालिक हो जाता है , पर कन्या वस्तु नहीं है जो हम उसे दान में दे दें और वर पक्ष उसके साथ चाहे जैसा व्यवहार करे हम कुछ न बोलें या विवाह के पश्चात् कन्या के माता – पिता का उस पर कोई हक न रहे । हमारी दृष्टि में कन्या के साथ दान की बात करना बिल्कुल भी सही नहीं है ।

पाठेतर सक्रियता

प्रश्न 7. ‘ स्त्री को सौन्दर्य का प्रतिमान बना दिया जाना ही उसका बन्धन बन जाता है ‘ – इस विषय पर कक्षा में चर्चा कीजिए ।

उत्तर – छात्र स्वयं कक्षा में अपने विषयाध्यापक के साथ इस विषय पर चर्चा करें ।

प्रश्न 8. यहाँ अफ़गानी कवयित्री ‘ मीना किश्वर कमाल ‘ की कविता की कुछ पंक्तियाँ दी जा रही हैं । क्या आपको ‘ कन्यादान ‘ कविता से इसका कोई सम्बन्ध दिखाई देता है ?

मैं लौटूंगी नहीं

मैं एक जगी हुई स्त्री हूँ

मैंने अपनी राह देख ली है

अब मैं लौटूंगी नहीं

मैंने ज्ञान के बंद दरवाजे खोल दिए हैं ।

सोने के गहने तोड़कर फेंक दिए हैं ।

भाइयो ! मैं अब वह नहीं हूँ जो पहले थी

मैं एक जगी हुई स्त्री हूँ

मैंने अपनी राह देख ली है

अब मैं लौटूंगी नहीं

उत्तर – इस कविता का सीधा सम्बन्ध ‘ कन्यादान ‘ कविता से है । कन्यादान की कन्या भोली होने के कारण सौंदर्य के जाल में फँसी हुई है । उसे गुलामी के कारणों का ज्ञान नहीं है । वह नहीं जानती कि सोने के गहने उसे पुरुष का गुलाम बनाते हैं । ‘ मैं लौटूंगी नहीं ‘ की कन्या जागरूक हो उठी है । उसने जान लिया है कि सोने की जंजीरें उसके लिए बंधन हैं । इसलिए उसने सब गहने तोड़ डाले हैं । उसने अपनी कमज़ोरी और लक्ष्य को समझ लिया है । इस प्रकार इस कविता की कन्या ‘ कन्यादान ‘ कविता का जाग्रत रूप है ।

 

एनसीईआरटी सॉल्यूशंस के लाभ

एनसीईआरटी के कक्षा 10 समाधान में अत्यंत महत्वपूर्ण बिंदु हैं, और प्रत्येक अध्याय के लिए, प्रत्येक अवधारणा को सरल बनाया गया है ताकि उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम प्राप्त करने की संभावनाओं को याद रखना और बढ़ाना आसान हो सके। परीक्षा की तैयारी के संदर्भ यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं कि ये समाधान आपको परीक्षा की तैयारी में कैसे मदद कर सकते हैं ।

  1. यह छात्रों को प्रत्येक अध्याय में कई समस्याओं को हल करने में मदद करता है और उन्हें अपनी अवधारणाओं को और अधिक सार्थक बनाने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  2. कक्षा 10 समाधानों के लिए एनसीईआरटी समाधान आपको अपने ज्ञान को अपडेट करने और अपनी अवधारणाओं को परिष्कृत करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ताकि आप परीक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त कर सकें।
  3. ये समाधान सबसे अच्छी परीक्षा सामग्री हैं, जिससे आप अपने सप्ताह और अपनी ताकत के बारे में अधिक जानने की अनुमति देते हैं। परीक्षा में अच्छे परिणाम पाने के लिए जरूरी है कि आप अपनी कमजोरियों को दूर करें।
  4. परीक्षा में ज्यादातर प्रश्न एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों के समान तरीके से तैयार किए जाते हैं । इसलिए, छात्रों को विषय को बेहतर ढंग से समझने के लिए प्रत्येक अध्याय में समाधानों की समीक्षा करनी चाहिए।
  5. यह निशुल्क है।

कक्षा 10 परीक्षा की तैयारी के लिए टिप्स और रणनीतियां

  1. अपने पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम की योजना बनाएं और संशोधन के लिए समय बनाएं
  2. परीक्षा की तैयारी के लिए हर बार अपनी अवधारणाओं को स्पष्ट करने के लिए cbsestudyguru वेबसाइट पर उपलब्ध एनसीईआरटी समाधान का उल्लेख करें ।
  3. परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करने के लिए सीखना शुरू करने के लिए cbsestudyguru लर्निंग ऐप का उपयोग करें। हल और अनसुलझे कार्यों सहित पूर्ण शिक्षण सामग्री प्रदान करें।
  4. यह अपने शिक्षकों या एलेक्स (एक अल अध्ययन बॉट) के साथ परीक्षा से पहले अपने सभी संदेहों को स्पष्ट करने के लिए महत्वपूर्ण है ।
  5. जब आप किसी चैप्टर को पढ़ते या पढ़ते हैं तो एल्गोरिदम फॉर्मूले, प्रमेय आदि लिखें और परीक्षा से पहले उनकी जल्दी समीक्षा करें ।
  6. अपनी अवधारणाओं को मजबूत बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें।
  7. आराम और उचित भोजन लें।  ज्यादा तनाव न करें।

कक्षा 10 के लिए सीबीएसस्टूडुगुरु एनसीईआरटी सॉल्यूशंस का विकल्प क्यों चुनते हैं?

  • cbsestudyguru अपनी उंगलियों पर सभी विषयों के लिए एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं ।
  • ये समाधान विषय विशेषज्ञों द्वारा डिजाइन किए गए हैं और एनसीईआरटी की हर पाठ्यपुस्तक प्रश्नों के समाधान प्रदान करते हैं।
  • cbsestudyguru विशेष रूप से सीखने को इंटरैक्टिव, प्रभावी और सभी वर्गों के लिए बनाने पर केंद्रित है।
  • हम कक्षा 10 और अन्य सभी कक्षाओं के लिए मुफ्त एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं।

Leave a Comment