NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 उत्साह और अट नहीं रही

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 उत्साह और अट नहीं रही

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 उत्साह और अट नहीं रही, (हिंदी)परीक्षा में राज्य बोर्ड और सीबीएसई स्कूलों में से कुछ में एनसीईआरटी की किताबों के माध्यम से छात्रों को पढ़ाया जाता है के रूप में अध्याय एक अंत शामिल है, वहां एक अभ्यास के लिए छात्रों को मूल्यांकन के लिए तैयार सहायता प्रदान की है छात्रों को उन अभ्यासों को बहुत अच्छी तरह से स्पष्ट करने की जरूरत है क्योंकि बहुत पिछले उन लोगों से पूछा भीतर सवाल

कई बार, छात्रों के अभ्यास के भीतर अटक जाते है और सवालों के सभी स्पष्ट करने में सक्षम नहीं हैं छात्रों को सभी प्रश्नों को हल करने और अपनी पढ़ाई को संदेह के साथ बनाए रखने में सहायता करने के लिए, हमने सभी कक्षाओं के लिए छात्रों के लिए स्टेप एनसीईआरटी सॉल्यूशंस द्वारा कदम प्रदान किए हैं। इन उत्तरों को इसी तरह छात्रों की सहायता और सवालों का सही जवाब देने के तरीके के रूप में ठीक से सचित्र समाधानों की सहायता से बेहतर अंक स्कोरिंग में छात्रों की मदद मिलेगी

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 उत्साह और अट नहीं रही

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 उत्साह और अट नहीं रही

पाठ्य-पुस्तक के प्रश्न-अभ्यास

 

प्रश्न 1 . कवि बादल से फुहार रिमझिम या बरसने के स्थान पर ‘ गरजने ‘ के लिए कहता है क्यों ?

उत्तर – निराला एक क्रांतिकारी कवि थे । वे समाज में परिवर्तन लाने के लिए जनता में जोश भरना चाहते थे । बादलों की फुहार , रिमझिम या बरसने जैसे कोमल भावों से क्रांति नहीं हो सकती थी । इसलिए कवि क्रांति व चेतना जाग्रत करने के लिए बादलों से गरजने के लिए कहते हैं ।

प्रश्न 2 . कविता का शीर्षक उत्साह क्यों रखा गया है ?

उत्तर – कविता का शीर्षक उत्साह इसलिए रखा गया है क्योंकि बादलों द्वारा वर्षा करने पर गर्मी से पीड़ित और प्यासे लोगों के जीवन में नवीन आशा और उत्साह का संचार होगा और किसी भी क्रांति के लिए लोगों में उत्साह का होना आवश्यक है ।

प्रश्न 3 . कविता में बादल किन – किन अर्थों की ओर संकेत करता है ?

उत्तर – कविता में बादल दो अर्थों की और संकेत करता है ।

( 1 ) पीड़ित तथा प्यासे जन की आकांक्षा को पूर्ण कर उन्हें नवजीवन प्रदान करना ।

( 2 ) नयी कल्पना को जाग्रत करने के लिए विध्वंस और क्रान्ति चेतना को जगाने वाला ।

प्रश्न 4 . शब्दों का ऐसा प्रयोग जिससे कविता में किसी खास भाव या दृश्य में ध्वन्यात्मक प्रभाव पैदा हो , नाद- सौन्दर्य कहलाता है । ‘ उत्साह ‘ कविता में ऐसे कौन – से शब्द हैं जिनमें नाद- सौन्दर्य मौजूद है , छाँटकर लिखिए ।

उत्तर – ‘ उत्साह ‘ कविता में नाद सौन्दर्य से युक्त शब्द निम्नलिखित हैं –

( i ) घेर – घेर घोर गगन , धाराधर ओ ।

( ii ) ललित ललित , काले घुँघराले ।

( iii ) काल कल्पना के से पाले

( iv ) विद्युत छवि उर में

( v ) विकल – विकल उन्मन थे उन्मन

रचना और अभिव्यक्ति

प्रश्न 5. जैसे बादल उमड़ – घुमड़कर बारिश करते हैं वैसे ही कवि के अंतर्मन में भी भावों के बादल उमड़ – घुमड़कर कविता के रूप में अभिव्यक्त होते हैं । ऐसे ही कभी किसी प्राकृतिक सौन्दर्य को देखकर अपने उमड़ते भावों को कविता में उतारिए ।

उत्तर – किसलय कर स्वागत के लिए हिला करते हैं

मृदु मनोभाव के समान पुष्प खिला करते हैं ।

डाली से नये फल रोज मिला करते हैं ।

फल फूलों से लदी डालियाँ हैं ,

हरी पत्तले भरी थालियाँ हैं ।

तटनी की लहरें और तालियाँ हैं ।

पाटेतर सक्रियता

प्रश्न 6. बादलों पर अनेक कविताएँ हैं । कुछ कविताओं का संकलन करें और उनका चित्रांकन भी कीजिए ।

उत्तर- बादल राग ( सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘ निराला ‘ ) –

( 1 ) झूम – झूम मृदु गरज – गरज घन घोर

राग – अमर ! अम्बर में भर निज रोर !

झर झर झर निर्झर गिरि – सर में ,

घर , मरु , तरु – मर्मर , सागर में

सरित – तडित गति- चकित पवन

मन में विजन गहन कानन में ,

आनन – आनन में , रव – घोर कठोर ।

राग अमर ! अम्बर में भर निज रोर ।

अरे वर्ष के हर्ष !

( 2 ) बरस तू बरस बरस रसधार !

पार ले चल तू मुझको !

बहा दिखा मुझको भी निज

गर्जन भैरव संसार !

उथल – पुथल कर हृदय

मचा हलचल

चल रे चल

मेरे पागल बादल ।

( 3 ) हँसता दलदल ,

हँसता है नद खल खल

बहता, कहता कुला – कुल कलकल कलकल

देख – देख नाचता हृदय

बहने को महा विकल , बैकल

इस मरोर से शोर से

सघन घोर गुरु गहन रोर से

मुझे गगन का दिखा सघन वह छोर

राग अमर ! अम्बर में भर निज रोर ! ( परिमल से )

नोट- कविता का चित्रांकन छात्र स्वयं करें ।

अट नहीं रही है

प्रश्न 1. छायावाद की एक खास विशेषता है – अन्तर्मन के भावों का बाहर की दुनिया से सामंजस्य बिठाना । कविता की किन पंक्तियों को पढ़कर यह धारणा पुष्ट होती है ? लिखिए ।

उत्तर – कहीं साँस लेते हो

घर – घर भर देते हो ,

उड़ने की नभ में तुम

पर – पर कर देते हो ,

आँख हटाता हूँ तो

हट नहीं रही है ।

प्रश्न 2. कवि की आँख फागुन की सुंदरता से क्यों नहीं हट रही है ?

उत्तर – फागुन मास की प्राकृतिक शोभा इतनी विविध और मनोहारी है कि घर – घर को महकाती पवन , आकाश में अठखेलियाँ करते पक्षी . पत्तों से लदी डालियों और मंद सुगंध से परिपूर्ण पुष्प समूह के इन सारे दृश्यों ने मंत्रमुग्ध – सा कर दिया था । इसलिए कवि की आँख फागुन से हट नहीं रही थी ।

प्रश्न 3. प्रस्तुत कविता में कवि ने प्रकृति का व्यापकता का वर्णन किन रूपों में किया है ?

उत्तर– प्रस्तुत कविता में कवि ने प्रकृति की व्यापकता का वर्णन पृथ्वी तल से लेकर आकाश मण्डल तक किया है । प्रकृति का सौन्दर्य कृषि की श्वासों में भी बसा हुआ है । वनों , बगीचों तथा पेड़ पौधों पर फैला हुआ है । उसका सौन्दर्य जगह – जगह भरा पड़ा है जो समा नहीं रहा है ।

प्रश्न 4. फागुन में ऐसा क्या होता है जो बाकी ऋतुओं से भिन्न होता है ?

उत्तर– फागुन में प्राकृतिक सौन्दर्य अपने पूरे यौवन पर होता है , यह सौन्दर्य प्रकृति के सभी स्थलों पर बिखरा पड़ा होता है । मौसम , सुहावना होता है न अधिक गर्मी होती और न ही अधिक ठंड पड़ती है ।

प्रश्न 5 . इन कविताओं के आधार पर निराला के काव्य – शिल्प की विशेषता लिखिए ।

उत्तर – इन कविताओं के आधार पर निराला जी के काव्य में निम्नांकित विशेषताएँ पाई जाती हैं –

( 1 ) कल्पना का तत्व , ( 2 ) रहस्य भावना , ( 3 ) छायावादी भावना , ( 4 ) प्रगतिवादी भावना , ( 5 ) प्रकृति का सजीव रूप में चित्रण आदि ।

रचना और अभिव्यक्ति

प्रश्न 6. होली के आस – पास प्रकृति में जो परिवर्तन दिखाई देते हैं , उन्हें लिखिए ।

उत्तर– छात्र स्वयं करें ।

पाठेतर सक्रियता

प्रश्न 7. फागुन में गाए जाने वाले गीत जैसे होली , फाग आदि गीतों के बारे में जानिए ।

उत्तर– छात्र स्वयं जानकारी प्राप्त करें ।

 

एनसीईआरटी सॉल्यूशंस के लाभ

एनसीईआरटी के कक्षा 10 समाधान में अत्यंत महत्वपूर्ण बिंदु हैं, और प्रत्येक अध्याय के लिए, प्रत्येक अवधारणा को सरल बनाया गया है ताकि उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम प्राप्त करने की संभावनाओं को याद रखना और बढ़ाना आसान हो सके। परीक्षा की तैयारी के संदर्भ यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं कि ये समाधान आपको परीक्षा की तैयारी में कैसे मदद कर सकते हैं ।

  1. यह छात्रों को प्रत्येक अध्याय में कई समस्याओं को हल करने में मदद करता है और उन्हें अपनी अवधारणाओं को और अधिक सार्थक बनाने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  2. कक्षा 10 समाधानों के लिए एनसीईआरटी समाधान आपको अपने ज्ञान को अपडेट करने और अपनी अवधारणाओं को परिष्कृत करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ताकि आप परीक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त कर सकें।
  3. ये समाधान सबसे अच्छी परीक्षा सामग्री हैं, जिससे आप अपने सप्ताह और अपनी ताकत के बारे में अधिक जानने की अनुमति देते हैं। परीक्षा में अच्छे परिणाम पाने के लिए जरूरी है कि आप अपनी कमजोरियों को दूर करें।
  4. परीक्षा में ज्यादातर प्रश्न एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों के समान तरीके से तैयार किए जाते हैं । इसलिए, छात्रों को विषय को बेहतर ढंग से समझने के लिए प्रत्येक अध्याय में समाधानों की समीक्षा करनी चाहिए।
  5. यह निशुल्क है।

कक्षा 10 परीक्षा की तैयारी के लिए टिप्स और रणनीतियां

  1. अपने पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम की योजना बनाएं और संशोधन के लिए समय बनाएं
  2. परीक्षा की तैयारी के लिए हर बार अपनी अवधारणाओं को स्पष्ट करने के लिए cbsestudyguru वेबसाइट पर उपलब्ध एनसीईआरटी समाधान का उल्लेख करें ।
  3. परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करने के लिए सीखना शुरू करने के लिए cbsestudyguru लर्निंग ऐप का उपयोग करें। हल और अनसुलझे कार्यों सहित पूर्ण शिक्षण सामग्री प्रदान करें।
  4. यह अपने शिक्षकों या एलेक्स (एक अल अध्ययन बॉट) के साथ परीक्षा से पहले अपने सभी संदेहों को स्पष्ट करने के लिए महत्वपूर्ण है ।
  5. जब आप किसी चैप्टर को पढ़ते या पढ़ते हैं तो एल्गोरिदम फॉर्मूले, प्रमेय आदि लिखें और परीक्षा से पहले उनकी जल्दी समीक्षा करें ।
  6. अपनी अवधारणाओं को मजबूत बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें।
  7. आराम और उचित भोजन लें।  ज्यादा तनाव न करें।

कक्षा 10 के लिए सीबीएसस्टूडुगुरु एनसीईआरटी सॉल्यूशंस का विकल्प क्यों चुनते हैं?

  • cbsestudyguru अपनी उंगलियों पर सभी विषयों के लिए एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं ।
  • ये समाधान विषय विशेषज्ञों द्वारा डिजाइन किए गए हैं और एनसीईआरटी की हर पाठ्यपुस्तक प्रश्नों के समाधान प्रदान करते हैं।
  • cbsestudyguru विशेष रूप से सीखने को इंटरैक्टिव, प्रभावी और सभी वर्गों के लिए बनाने पर केंद्रित है।
  • हम कक्षा 10 और अन्य सभी कक्षाओं के लिए मुफ्त एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं।

 

Leave a Comment