Class 9 Economics Chapter 1 Notes

Class 9 Economics Chapter 1 Notes THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR

Class 9 Economics Chapter 1 Notes THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR in this step-by-step answer guide. In some of State Boards and CBSE schools, students are taught thru NCERT books. As the chapter comes to an end, students are requested few questions in an exercising to evaluate their expertise of the chapter. Students regularly want guidance managing those NCERT Class 9 Economics Chapter 1 Notes THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR. It’s most effective natural to get stuck withinside the exercises while solving them so that you can assist students score higher marks, we’ve provided step by step NCERT answers for all exercises of Class nine Social Science THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR so you can are looking for assist from them. Students should solve those exercises carefully as questions withinside the final exams are requested from those, so these exercises immediately have an impact on students’ final score. Find all NCERT Notes for Class nine Social Science THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR below and prepare in your tests easily

CHAPTER 1

THE STORY OF VILLAGE PALAMPUR

Overview

  1. The purpose of the story is to introduce some basic concepts relating of production.
  2. A story of a hypothetical village called Palampur.
  3. Farming is the main activity in Palampur, whereas several other activities such as small sacle manufacturing, dairy, transport, etc.

Introduction of Palampur

  1. Palampur is well-connected with neighbouring villages and towns.
  2. All weather road connects the village to Raiganj and further on to the nearest small town of Shahpur.
  3. Transport are visible on this road starting from bullock carts, tongas, bogeys (wooden cart drawn by bufalos) loaded with jiggery (gur) and the commodities to motor vehicles like motorcycles, jeeps, tractors and trucks.
  4. This village has about 450 families belonging to several different casters.
  5. The 80 upper caste families own the majority of land in the village.
  6. Their houses, some of them quite large, are made of brick with cement plastering.
  7. The SCs comprise one third of the population and live in one corner of the village and in much smaller houses some of which are of mud and straw. Most of the houses have electric connections.
  8. Electricity powers all the tubewells in the fields and is used in various types of small business.
  9. Palampur has two primary schools one high school.
  10. There is a primary health centre run by the government and one private dispensary where the sick are treated.

Palampur has fairly well-developed system of roads, transport, electricity, irrigation, schools and health centre.

Organisation of production

What is required for organization of production?

What is the factor of production?

What is physical capital and its type?

  • The aim of production is to produce the goods and services. There are four requirements for production of goods and services.
  • The first requirement is land, and other natural resources such as water, forests, Minerals.
  • The second requirement is labour, i.e. people who will do the work. Some production activities require highly educated workers to perform the necessary tasks. Other activities require workers who can do manual work.
  • The third requirement is physical capital, i.e. the variety of inputs required at every stage during production. Items come under physical capital?

(a). Tools, machines, buildings: Tools and machines range from very simple tools such as a farmer’s plough to sophisticated machines such as generators, turbines, computers, etc.

  • Tools, Machines, buildings can be used in production over many years, and are called fixed capital.

(b). Raw, materials and money n hand: Production requires a variety of raw materials such as the yarn used by the wear and the clay used by the potter.

  • Also some money is always required during production to make payments and bu other necessary items.
  • Raw Materials and money in hand are called working capital.

Fourth requirement need knowledge and enterprise to be able to put together land, labour and physical capital.

  1. Land, labour and physical capital and produce an output either to use yourself or to sell in the market.
  2. This these days is called human capital.

Every production is organized by combining land, labour, physical capital and human capital, which are known as factors of production.

Farming in Palampur

Land is fixed

  1. Farming is the main production activity in Palampur.
  2. 75 per cent of the people who are working are dependent on farming for their livelihood.
  3. The well-being of these people is closely related to production on the farms.
  4. There is a basic constraint in raising farm production.
  5. Land area under cultivation is practically fixed.
  6. There is no further scope to increase farm production.

IS THERE A WAY ONE CAN GROW MORE FROM TE SAME LAND?

  1. All land is cultivated in Palampur. No land is left idle.
  2. During the rainy season farmers grow jowar and bajra.
  3. It is followed by cultivation of potato between October and December.
  4. In the winter season, fields are sown with wheat.
  5. A part of the land area is also devoted to sugarcane which is harvested once every year.

Reason farmer grow different crop.

  1. The main reason farmers are able to grow three different crops in a year in Palampur is due to the well-developed system of irrigation.
  2. Electricity came early to Palampur.
  3. Its major impact was to transform the system of irrigation.
  4. Persian wheels were till then used by farmers to draw water from the wells and irrigate small fields.

Not all villages in India have such high levels of irrigation. Riverine plains, coastal regions in our country are well-irrigated. Plateau regions have low levels of irrigation in the country a little less than 40 per cent is irrigated even today. Remaining areas, farming is largely dependent on rainfall.

What is Multiple Cropping?

  1. To grow more than one crop on a piece of land during the year is known as multiple cropping.
  2. The most common way of increasing production on a given piece of land.

One way of increasing production from the same land is by multiple cropping. The other way is to use modern farming methods for higher yield.

  1. The Green Revolution in the late 1960s introduced of wheat and rice using high yielding varieties HYVs.
  2. HYV seeds promised to produce much greater amounts of grain on a single plant.
  3. HTV seeds needed plenty of water and also chemical fertilizers and pesticides to produce best results.
  4. Higher Yields possible only from a combination of HYV seeds, irrigation, chemical fertilizers, pesticides, etc.
  5. Farmers of Punjab, Haryana and Western Uttar Pradesh were the first to try out the modern farming method in India.
  6. In Palampur, the yield of wheat grown from the traditional varieties was 1300 kg per hectare. With HYV seeds, the yield went up to 3200 kg per hectare.

Will the land sustain?

  1. Land being a natural resource, it is necessary to be careful in its use.
  2. Scientific reports indicate that the modern farming methods have overused the natural resource base.
  3. Green Revolution is associated with the loss of soil fertility due to increased use of chemical fertilizers.
  4. Continuous use of groundwater for tubewell irrigation has led to the depletion of the water table.
  5. Environmental resources, like soil fertility and groundwater, are built up over years.
  6. Once destroyed it is very difficult to restore them.

How is land distributed between the farmers of Palampur?

  1. Land is important for survival for any kind of family.
  2. In Palampur, about one third of the 450 families are landless, i.e. 150 families, most of them dalits, have no land for cultivation.
  3. 240 families cultivate small plots of land less than 2 hectares in size.
  4. The large number of small plots scattered around the village.
  5. In Palampur, 60 familities of medium and large farmers who cultivate more than 2 hectares of land.
  6. A few of the large farmers have land extending over 10 hectares or more.

Who will provide the labour?

  • Labour is the next necessary factor for production.
  • Medium and large farmers hire farm labourers to work on their fields.
  • Farm labourers come either from landless families or families cultivating small plots of land.
  • Farm labourers do not have a right over the crops grown on the land.
  • They are paid wages by the farmer for whom they work.
  • Wages can be in cash or in kind e.g. crop.
  • Labourers get meals also.
  • Wages very widely from region to region, from crop to crop, from one farm activity to another.
  • Like sowing and harvesting
  • There is also a wide variation in the duration of employment.
  • A farm labourer might be employed on a daily basis or for one particular farm activity like harvesting or for the whole year.

The capital needed in farming

The modern farming methods require a great deal of capital.

  1. Most small farmers have to borrow money to arrange for the capital.
  2. They borrow from large farmers or the village moneylenders or the traders.
  3. The rate of interest on such loans is very high.
  4. They are put to great distress to repay the loan.
  5. In contrast to the small farmers.
  6. The medium and large farmers have their own savings from farming.
  7. They are able to arrange for the capital needed.

Sale of Surplus Farm Products

Medium and Large Farmers

  1. They retain a part of the wheat for the family’s consumption and sell the surplus wheat.

Small farmers.

  • Small farmers have little surplus wheat because their total production is small and from this a substantial share is kept for their own family needs.
  • The traders at the market buy the wheat and sell it further to shopkeepers in the towns and cities.
  • Large and medium farmers sell the surplus farm products.
  • A part of the earnings is saved and kept for buying capital for the next season.

Non-Farm Activities in Palampur

Only 25 per cent of the people working in Palampur are engaged in non Farming activities.

Dairy – The other common activity

  1. Dairy is a common activity in many families of Palampur.
  2. People feed their buffalos on various kinds of grass and the jawar and bajra that grows during the rainy season.
  3. The milk is sold in Raiganj, the nearby large village.
  4. The milk is transported to far away owns and cities.

An example of small-scale manufacturing in Palampur

  1. Less than fifty people are engaged in manufacturing in Palampur.
  2. Manufacturing in Palampur involves very simple production methods and are done on a small scale.
  3. They are carried out mostly at home or in the fields with the help of family labour.

The shopkeepers of Palampur

  1. People involved in trader are not many in Palampur.
  2. The traders of Palampur are shopkeepers who buy various goods from wholesale markets in the cities and sell them in the village.
  3. General stores in the village selling a wide range of items like rice, wheat, sugar, tea, oil, biscuits, soap, toothpaste, batteries, candles, notebooks, pen, pencil, even some cloth.
  4. A few of the families whose houses are close to the bus stand have open small shops. They sell eatables.

Transport: a fast-developing sector

  1. There are variety of vehicles on the road connecting Palampur to Raiganj.
  2. Rickshawallah, tongawallahs, jeep, tractor, truck drivers and people driving the traditional bullock cart and bogey a
  3. re people in the transport services.
  4. They ferry people and goods from one place to another, and in return get paid for it.

­­­पालमपुर गाँव की कहानी

 

अवलोकन –­­­­­­

  • इस कहानी का उद्देश्य उत्पादन से संबंधित मूल विचारों से परिचय कराना है
  • ऐसा हम एक काल्पनिक गाँव- पालमपुर की कहानी के माध्यम से कर रहे हैं ।
  • पालमपुर गाँव की कहानी पालमपुर में खेती मुख्य क्रिया है , जबकि अन्य कई क्रियाएँ जैसे , लघु – स्तरीय विनिर्माण , डेयरी , परिवहन आदि सीमित स्तर पर की जाती हैं ।

 

पालमपुर गाँव क परिचय

  • पालमपुर आस – पड़ोस के गाँवों और कस्बों से भलीभाँति जुड़ा हुआ है ।
  • प्रत्येक मौसम में यह सड़क गाँव को रायगंज और उससे आगे निकटतम छोटे कस्बे शाहपुर से जोड़ती है ।
  • इस सड़क पर गुड़ और अन्य वस्तुओं से लदी हुई बैलगाड़ियाँ , भैंसाबग्घी से लेकर अन्य कई तरह के वाहन जैसे , मोटरसाइकिल , जीप , ट्रैक्टर और ट्रक तक देखे जा सकते हैं ।
  • इस गाँव में विभिन्न जातियों के लगभग 450 परिवार रहते हैं । गाँव में अधिकांश भूमि के स्वामी उच्च जाति के 80 परिवार हैं ।
    • उनके मकान , जिनमें से कुछ बहुत बड़े हैं , ईंट और सीमेंट के बने हुए हैं ।
    • अनुसूचित जाति ( दलित ) के लोगों की संख्या गाँव की कुल जनसंख्या का एक तिहाई है और वे गाँव के एक कोने में काफ़ी छोटे घरों में रहते हैं , जिनमें कुछ मिट्टी और फूस के बने हैं ।
  • अधिकांश के घरों में बिजली है ।
    • खेतों में सभी नलकूप बिजली से ही चलते हैं और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के छोटे कार्यों के लिए भी किया जाता है ।
  • पालमपुर में दो प्राथमिक विद्यालय और एक हाई स्कूल है । गाँव में एक राजकीय प्राथमिक स्वास्थ केंद्र और एक निजी औषधालय भी , जहाँ रोगियों का उपचार किया जाता है

 

उत्पादन का संगठन

  • उत्पादन का उद्देश्य वस्तुएँ और सेवाएँ उत्पादित करना है
  • वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के लिए चार चीजें आवश्यक हैं ।
  1. पहली आवश्यकता है भूमि तथा अन्य प्राकृतिक संसाधन , जैसे- जल , वन , खनिज ।
  2. दूसरी आवश्यकता है श्रम अर्थात् जो लोग काम करेंगे ।
    • उत्पादन क्रियाओं में जरूरी कार्यों को करने के लिए बहुत ज्यादा पढ़े – लिखे कर्मियों की ज़रूरत होती है ।
  3. तीसरी आवश्यकता भौतिक पूँजी है , अर्थात् उत्पादन के प्रत्येक स्तर पर अपेक्षित कई तरह के आगत ।

भौतिक पूँजी के अंतर्गत कौन – कौन सी वस्तु आती हैं?

( क ) औजार , मशीन , भवन : औज़ारों तथा मशीनों में अत्यंत साधारण औज़ार जैसे किसान का हल से लेकर परिष्कृत मशीनें जैसे- जेनरेटर , टरबाइन , कंप्यूटर आदि आते हैं ।

  • औज़ारों , मशीनों और भवनों का उत्पादन में कई वर्षों तक प्रयोग होता है और इन्हें स्थायी पूँजी कहा जाता है ।

( ख ) कच्चा माल और नकद मुद्रा : उत्पादन में कई कच्चे माल की आवश्यकता होती है , जैसे बुनकर द्वारा प्रयोग किया जाने वाला सूत और कुम्हारों द्वारा प्रयोग में लाई जाने वाली मिट्टी ।

  • कच्चा माल तथा नकद पैसों को कार्यशील पूँजी कहते हैं ।

औज़ारों , मशीनों तथा भवनों से भिन्न ये चीजें उत्पादन क्रिया के दौरान समाप्त हो जाती हैं ।

4. चौथी आवश्यकता

  • उपभोग हेतु या बाजार में बिक्री हेतु उत्पादन करने के लिए भूमि , श्रम और भौतिक पूँजी को एक साथ करने योग्य बनाने के लिए ज्ञान और उद्यम की आवश्यकता पड़ेगी ।
  • आजकल इसे मानव पूँजी कहा जाता है ।

उत्पादन भूमि , श्रम और पूँजी को संयोजित करके संगठित होता है , जिन्हें उत्पादन के कारक कहा जाता है ।

 

पालमपुर में खेती

1. भूमि स्थिर है

  • पालमपुर में खेती उत्पादन की प्रमुख क्रिया है ।
  • काम करने वालों में 75 प्रतिशत लोग अपनी जीविका के लिए खेती पर निर्भर हैं ।
  • इन लोगों का हित खेतों में उत्पादन से जुड़ा हुआ है ।
  • कृषि उत्पादन में एक मूलभूत कठिनाई है । खेती में प्रयुक्त भूमि क्षेत्र वस्तुतः स्थिर होता है । पालमपुर
  • नयी भूमि को खेती योग्य बनाकर कृषि उत्पादन को और बढ़ाने की कोई गुंजाइश नहीं है ।

 

2. क्या उसी भूमि से अधिक पैदावार करने का कोई तरीका है ?

  1. पालमपुर में समस्त भूमि पर खेती की जाती है । कोई भूमि बेकार नहीं छोड़ी जाती ।
    • बरसात के मौसम ( खरीफ़ ) में किसान ज्वार और बाजरा उगाते हैं ।
    • इसके बाद अक्तूबर और दिसंबर के बीच आलू की खेती होती है ।
  2. सर्दी के मौसम ( रबी ) में खेतों में गेहूँ उगाया जाता है ।
  3. भूमि के एक भाग में गन्ने की खेती भी की जाती है , जिसकी वर्ष में एक बार कटाई होती है ।

कारण किसान अलग-अलग फसल क्यों उगाते हैं?

  1. पालमपुर में एक वर्ष में किसान तीन अलग – अलग फसलें पैदा कर पाते हैं , क्योंकि वहाँ सिंचाई की सुविकसित व्यवस्था है ।
  2. पालमपुर में बिजली जल्दी ही आ गई थी ।
    • उसका मुख्य प्रभाव यह पड़ा कि सिंचाई की पद्धति ही बदल गई ।
  3. तब तक किसान कुँओं से रहट द्वारा पानी निकालकर छोटे – छोटे खेतों की सिंचाई किया करते थे ।
  4. लोगों ने देखा कि बिजली से चलने वाले नलकूपों से ज्यादा प्रभावकारी ढंग से अधिक क्षेत्र की सिंचाई की जा सकती थी ।

बहु फसल क्या है?

  1. एक वर्ष में किसी भूमि पर एक से ज्यादा फसल पैदा करने को बहुविध फसल प्रणाली कहते है ।
    • यह भूमि के किसी एक टुकड़े में उपज बढ़ाने की सबसे सामान्य प्रणाली है ।
  2. एक ही ज़मीन के टुकड़े से उत्पादन बढ़ाने का एक तरीका बहुविध फसल प्रणाली है ।

दूसरा तरीका अधिक उपज के लिए खेती में आधुनिक कृषि विधियों का प्रयोग करना है ।

  1. 1960 के दशक के अंत में हरित क्रांति ने भारतीय किसानों को अधिक उपज वाले बीजों ( एच . वाई.वी. ) के द्वारा गेहूँ और चावल की खेती करने के तरीके सिखाए ।
  2. परंपरागत बीजों की तुलना में एच . वाई . वी . बीजों से एक ही पौधे से ज्यादा मात्रा में अनाज पैदा होने की आशा थी ।
  3. अति उपज प्रजातियों वाले बीजों से अधिकतम उपज पाने के लिए बहुत ज्यादा पानी तथा रासायनिक खाद और कीटनाशकों की ज़रूरत थी ।
  4. अधिक उपज केवल अति उपज प्रजातियों वाले बीजों , सिंचाई , रासायनिक उवर्रकों और कीटनाशकों आदि के संयोजन से ही संभव थी ।
  5. पालमपुर में , परंपरागत बीजों से गेहूँ की उपज 1,300 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर थी । एच.वाई.बी. बीजों से उपज 3,200 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर तक पहुँच गई ।

भारत में पंजाब , हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों ने खेती के आधुनिक तरीकों का सबसे पहले प्रयोग किया ।

 

3. क्या भूमि यह धारण कर पाएगी ?

  1. भूमि एक प्राकृतिक संसाधन है , अतः इसका सावधानीपूर्वक प्रयोग करने की ज़रूरत है ।
  2. वैज्ञानिक रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि खेती की आधुनिक कृषि विधियों ने प्राकृतिक संसाधन आधार का अति उपयोग किया है ।
  3. हरित क्रांति के कारण उर्वरकों के अधिक प्रयोग से मिट्टी की उर्वरता कम हो गई है ।
  4. नलकूपों से सिंचाई के कारण भूमि जल के सतत् प्रयोग से भौम जल – स्तर कम हो गया है ।
  5. मिट्टी की उर्वरता और भौम जल जैसे पर्यावरणीय संसाधन कई वर्षों में बनते हैं ।
    • एक बार नष्ट होने के बाद उन्हें पुनर्जीवित करना बहुत कठिन है ।

कृषि का भावी विकास सुनिश्चित करने के लिए हमें पर्यावरण की देखभाल करनी चाहिए ।

 

4. पालमपुर के किसानों में भूमि किस प्रकार वितरित है ?

  • भूमि किसी भी प्रकार के परिवार के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है
  • पालमपुर में 450 परिवारों में से लगभग एक तिहाई अर्थात् 150 परिवारों के पास , खेती के लिए भूमि नहीं है , जो अधिकांशतः दलित हैं ।
  • 240 परिवार जिनके पास भूमि है , 2 हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल वाले छोटे भूमि के टुकड़ों पर खेती करते हैं ।
  • पालमपुर में मझोले और बड़े किसानों के 60 परिवार हैं , जो 2 हेक्टेयर से अधिक भूमि पर खेती करते हैं ।
  • कुछ बड़े किसानों के पास 10 हेक्टेयर या इससे अधिक भूमि है ।

 

5. श्रम की व्यवस्था कौन करेगा ?

  1. श्रम उत्पादन का दूसरा आवश्यक कारक है ।
  2. खेती में बहुत ज्यादा परिश्रम की आवश्यकता होती है ।
  3. मझोले और बड़े किसान अपने खेतों में काम करने के लिए दूसरे श्रमिकों को किराये पर लगाते हैं ।
  4. खेतों में काम करने के लिए श्रमिक या तो भूमिहीन परिवारों से आते हैं या बहुत छोटे प्लॉटों में खेती करने वाले परिवारों से ।
  5. खेतों में काम करने वाले श्रमिकों का उगाई गई फसल पर कोई अधिकार नहीं होता
    • बल्कि उन्हें उन किसानों द्वारा मज़दूरी मिलती है जिनके लिए वे काम करते हैं ।
  6. मज़दूरी नकद या वस्तु जैसे- अनाज के रूप में हो सकती है । कभी – कभी श्रमिकों को भोजन भी मिलता है ।
  7. मज़दूरी एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र , एक फसल से दूसरी फसल और खेत में एक से दूसरे कृषि कार्य ( जैसे बुआई और कटाई ) से के लिए अलग – अलग होती है ।
  8. खेत में काम करने वाले श्रमिक या तो दैनिक मज़दूरी के आधार पर कार्य करते हैं या उन्हें कार्य विशेष जैसे कटाई या पूरे साल के लिए काम पर रखा जा सकता है ।

 

6. खेतों के लिए आवश्यक पूँजी

आधुनिक तरीकों के खेती लिए बहुत अधिक पूँजी की आवश्यकता होती है

  1. अधिसंख्य छोटे किसानों को पूँजी की व्यवस्था करने के लिए पैसा उधार लेना पड़ता है ।
    • वे बड़े किसानों से या गाँव के साहूकारों से या खेती के लिए विभिन्न आगतों की पूर्ति करने वाले व्यापारियों से कर्ज लेते हैं ।
    • ऐसे कर्जों पर ब्याज की दर बहुत ऊँची होती है ।
    • कर्ज चुकाने के लिए उन्हें बहुत कष्ट सहने पड़ते हैं ।
  2. छोटे किसानों के विपरीत , मझोले और बड़े किसानों को खेती से बचत होती है ।
    • इस तरह वे आवश्यक पूँजी की व्यवस्था कर लेते हैं ।

 

7. अधिशेष कृषि उत्पादों की बिक्री

  1. वे परिवार के उपभोग के लिए कुछ गेहूँ रख लेते हैं और अधिशेष गेहूँ को बेच देते हैं ।
  2. छोटे किसानों के पास बहुत कम अधिशेष गेहूँ होता है , क्योंकि उनका कुल उत्पादन बहुत कम होता है तथा इसमें से एक बड़ा भाग वे परिवार की आवश्यकताओं के लिए रख लेते हैं ।
  3. बाज़ार में व्यापारी गेहूँ खरीदकर उसे आगे कस्बों और शहरों के दुकानदारों को बेच देते हैं ।
  4. बड़े और मझोले किसान भी खेती के अधिशेष कृषि उत्पादों को बेचते हैं ।
  5. कमाई के एक भाग को अगले मौसम के लिए पूँजी की व्यवस्था के लिए बचा कर रखा जाता है ।

 

पालमपुर में गैर – कृषि क्रियाएँ

पालमपुर में काम करने वाले केवल 25 प्रतिशत लोग कृषि के अतिरिक्त अन्य कार्य करते हैं ।

 

1. डेयरी: अन्य प्रचलित क्रिया

  • पालमपुर के कई परिवारों में डेयरी एक प्रचलित क्रिया है ।
  • लोग अपनी भैंसों को कई तरह की घास और बरसात के मौसम में उगने वाली ज्वार और बाजरा ( चरी ) खिलाते हैं ।
  • दूध को निकट के बड़े गाँव रायगंज में बेचा जाता है ।
  • दूध दूर – दराज के शहरों और कस्बों में भेजा जाता है ।

 

2. पालमपुर में लघुस्तरीय विनिर्माण का एक उदाहरण

  • पालमपुर में 50 से कम लोग विनिर्माण कार्यों में लगे हैं ।
  • पालमपुर में विनिर्माण में बहुत सरल उत्पादन विधियों का प्रयोग होता है और उसे छोटे पैमाने पर ही किया जाता है ।
  • विनिर्माण कार्य पारिवारिक श्रम की सहायता से अधिकतर घरों या खेतों में किया जाता है ।

 

3. पालमपुर के दुकानदार

  • पालमपुर में ज़्यादा लोग व्यापार ( वस्तु विनिमय ) नहीं करते ।
  • पालमपुर के व्यापारी वे दुकानदार हैं , जो शहरों के थोक बाज़ारों से कई प्रकार की वस्तुएँ खरीदते हैं और उन्हें गाँव में लाकर बेचते हैं ।
  • गाँव में छोटे जनरल स्टोरों में चावल , गेहूँ , चाय , तेल , बिस्कुट , साबुन , टूथ पेस्ट , बैट्री , मोमबत्तियाँ , कॉपियाँ , पैन , पैंसिल यहाँ तक कि कुछ कपड़े भी बिकते हैं ।
  • कुछ परिवारों ने जिनके घर बस स्टैंड के निकट हैं , घर के छोटी दुकान खोल ली है । वे खाने की चीजें बेचते हैं ।

 

4. परिवहन : तेज़ी से विकसित होता एक क्षेत्रक

  • पालमपुर और रायगंज के बीच सड़क पर कई प्रकार के वाहन चलते हैं ।
  • रिक्शावाले , ताँगेवाले , जीप , ट्रैक्टर , ट्रक ड्राइवर तथा परंपरागत बैलगाड़ी और दूसरी गाड़ियाँ चलाने वाले , वे लोग हैं , जो परिवहन सेवाओं में शामिल हैं ।
  • वे लोगों और वस्तुओं को एक जगह से दूसरी जगह पहुँचाते हैं और इसके बदले में उन्हें पैसे मिलते हैं ।

Leave a Comment