NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 9 संगतकार

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 9 संगतकार

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 9 संगतकार, (हिंदी)परीक्षा में राज्य बोर्ड और सीबीएसई स्कूलों में से कुछ में एनसीईआरटी की किताबों के माध्यम से छात्रों को पढ़ाया जाता है । के रूप में अध्याय एक अंत शामिल है, वहां एक अभ्यास के लिए छात्रों को मूल्यांकन के लिए तैयार सहायता प्रदान की है । छात्रों को उन अभ्यासों को बहुत अच्छी तरह से स्पष्ट करने की जरूरत है क्योंकि बहुत पिछले उन लोगों से पूछा भीतर सवाल ।

कई बार, छात्रों के अभ्यास के भीतर अटक जाते है और सवालों के सभी स्पष्ट करने में सक्षम नहीं हैं । छात्रों को सभी प्रश्नों को हल करने और अपनी पढ़ाई को संदेह के साथ बनाए रखने में सहायता करने के लिए, हमने सभी कक्षाओं के लिए छात्रों के लिए स्टेप एनसीईआरटी सॉल्यूशंस द्वारा कदम प्रदान किए हैं। इन उत्तरों को इसी तरह छात्रों की सहायता और सवालों का सही जवाब देने के तरीके के रूप में ठीक से सचित्र समाधानों की सहायता से बेहतर अंक स्कोरिंग में छात्रों की मदद मिलेगी ।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 9 संगतकार

Class 10 Hindi Kshitij Chapter 9 संगतकार

पाठ्य-पुस्तक के प्रश्न-अभ्यास

 

प्रश्न 1 . संगतकार के माध्यम से कवि किस प्रकार के व्यक्तियों की ओर संकेत करना चाह रहा है ?

उत्तर – संगतकार के माध्यम से कवि ऐसे व्यक्तियों की ओर संकेत करना चाहता है जिनकी महत्त्वपूर्ण भूमिका के कारण ही मुख्य गायक ( संगीत , नाटक , फिल्म ) सफलता के सोपानों को पार करता हुआ सर्वश्रेष्ठ घोषित किया जाता है ।

प्रश्न 2 . संगतकार जैसे व्यक्ति संगीत के अलावा और किन – किन क्षेत्रों में दिखाई देते हैं ?

उत्तर – संगतकार जैसे व्यक्ति संगीत के अलावा निम्नांकित क्षेत्रों में दिखलाई देते हैं

( 1 ) नाटक ( 2 ) संगीत ( 3 ) नृत्य , ( 4 ) फिल्म , ( 5 ) परिवार , ( 6 ) फैक्ट्री आदि में ।

प्रश्न 3 . संगतकार किन – किन रूपों में मुख्य गायक – गायिकाओं की मदद करता है ?

उत्तर – ( 1 ) संगतकार प्राचीन काल से ही मुख्य गायक – गायिकाओं के चट्टान जैसे भारी स्वर की मदद अपनी मधुर काँपती हुई आवाज में करता है ।

( 2 ) स्थायी स्वर को मुख्य गायक जब सरगम को लाँघकर , जटिल तानों के जंगल में खो जाता है तब संगतकार उस सँभालकर उसकी मदद करता है ।

( 3 ) जब तारसप्तक में प्रेरणा उसका साथ छोड़ने लगती है और उसका उत्साह समाप्त हो जाता है , तब संगतकार का स्वर उसे ढाँढस बँधाकर उसकी मदद करता है ।

( 4 ) कभी – कभी संगतकार उसका साथ देकर उसे यह याद दिलाता है कि वह अकेला नहीं है ।

प्रश्न 4. भाव स्पष्ट कीजिए –

और उसकी आवाज़ में जो एक हिचक साफ सुनाई देती है

या अपने स्वर को ऊँचा न उठाने की जो कोशिश है

उसे विफलता नहीं

उसकी मनुष्यता समझा जाना चाहिए ।

उत्तर- संगतकार की आवाज़ में जो एक हिचक सुनाई देती हैं , हिचक को या मुख्य गायक से उसकी आवाज़ के नीचा रहने को संगतकार की विफलता नहीं समझा जाना चाहिए , बल्कि इसे उसकी मानवीयता , बड़प्पन , माना जाना चाहिए । क्योंकि वह कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ही अपनी आवाज को नीचा रखता है ।

प्रश्न 5 . किसी भी क्षेत्र में प्रसिद्धि पाने वाले लोगों को अनेक लोग तरह – तरह से अपना योगदान देते हैं । कोई भी एक उदाहरण देकर इस कथन पर अपने विचार लिखिए ।

उत्तर – परिवार का कोई भी बच्चा चाहे वह पुत्र हो या पुत्री जब सफलता के सोपानों को पार करता हुआ सर्वोच्च स्थान पर पहुँचता है तो उसकी सफलता में परिवार के सभी सदस्यों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहता है उसके सहयोगियों में उसके गुरुजन , माता – पिता , दादा – दादी , बड़े भाई बहिन या छोटे भाई बहिन भी होते हैं । ये सभी अपनी – अपनी सामर्थ्य के अनुसार उसका सहयोग करते हैं ।

प्रश्न 6. कभी – कभी तारसप्तक की ऊँचाई पर पहुँचकर मुख्य गायक का स्वर बिखरता नजर आता है , उस समय संगतकार उसे बिखरने से बचा लेता है । इस कथन के आलोक में संगतकार की विशेष भूमिका को स्पष्ट कीजिए ।

उत्तर- तारसप्तक की ऊँचाई पर पहुँचकर मुख्य गायक का स्वर जब बिखरने लगता है तब संगतकार अपनी मधुर काँपती आवाज़ से उस समय मुख्य गायक के स्वर को बिखरने से बचा लेता है । इसीलिए संगतकार की विशेष भूमिका होती है । अगर संगतकार ऐसा नहीं करता है , मुख्य गायक का साथ नहीं देता है तो मुख्य गायक के स्वर के बिखरने से उसकी संगीत प्रस्तुति पर बुरा प्रभाव पड़ता है । उसने कदम – दर – कदम जिस ऊँचाई की ख्याति को प्राप्त किया है उस पर बुरा प्रभाव पड़ता है । इसीलिए मुख्य गायक की सफलता में संगतकार की विशेष भूमिका होती है ।

प्रश्न 7. सफलता के चरम शिखर पर पहुँचने के दौरान यदि व्यक्ति लड़खड़ाते हैं तब उसे सहयोगी किस तरह सँभालते हैं ?

उत्तर- सफलता के चरम शिखर पर पहुँचने के दौरान यदि व्यक्ति लड़खड़ाते हैं तब उसे सहयोगी तीन तरीकों से सँभालते हैं –

( 1 ) उसकी आर्थिक मदद करके ।

( 2 ) व्यक्ति को मानसिक ( मनोवैज्ञानिक ) मदद प्रदान करके ।

( 3 ) सफलता के पश्चात् मिलने वाले लाभ को बताकर उसकी मदद करते हैं ।

रचना और अभिव्यक्ति

प्रश्न 8. कल्पना कीजिए कि आपको किसी संगीत या नृत्य समारोह का कार्यक्रम प्रस्तुत करना है , लेकिन आपके सहयोगी कलाकार किसी कारणवश नहीं पहुँच पाए –

( क ) ऐसे में अपनी स्थिति का वर्णन कीजिए ।

( ख ) ऐसी परिस्थिति का आप कैसे सामना करेंगे ?

उत्तर- ( क ) कार्यक्रम को प्रस्तुत करने के लिए जब सहयोगी कलाकार नहीं पहुँच पाए तो इस खबर को सुनते ही मेरे माथे पर पसीना आ जाता है और घबराहट शुरू हो जाती है । मेरी समझ में नहीं आता कि मैं इस स्थिति में क्या करूँ ? कार्यक्रम को सुचारू ढंग से प्रस्तुत करने के लिए उपाय सोचते हुए इधर – उधर टहलने लगता हूँ तथा सोचता हूँ कि किसी तरह अन्य सहयोगियों का इंतजाम कर सकूँ ।

( ख ) ऐसी परिस्थिति में स्वयं को संयमित रखते हुए मैं अपने उन सहयोगी मित्रों से मदद लेने की कोशिश करूँगा जिन्हें संगीत या नृत्य में रुचि होगी , उनके सहयोग से मैं समारोह में संगीत या नृत्य का कार्यक्रम प्रस्तुत कर कार्यक्रम को सफल बनाऊँगा ।

प्रश्न 9. आपके विद्यालय में मनाए जाने वाले संस्कृतिक समारोह में मंच के पीछे काम करने वाले सहयोगियों की भूमिका पर एक अनुच्छेद लिखिए ।

उत्तर- किसी भी कार्यक्रम की सफलता में मंच के पीछे काम करने वाले सहयोगियों की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है । उनके सहयोग के बिना कार्यक्रम सम्पन्न नहीं हो पाता । वे मंच पर होने वाली प्रत्येक गतिविधि के लिए आवश्यक उपकरणों को यथास्थान सुसज्जित करते हैं । रोशनी , ध्वनि , संगीत आदि से संबंधित व्यवस्था करते हैं । कलाकार की छोटी से छोटी जरूरत को समय पर पूरा करते हैं । अगर सहयोगी किसी प्रकार की त्रुटि कर दें तो कार्यक्रम प्रभावित होता है । कलाकार द्वारा मंच पर संवाद भूलने की स्थिति में वह पीछे से संवाद याद दिलाते है । कलाकारों को सुसज्जित करके , उनके लिए उपयुक्त वेशभूषा का चुनाव करने में भी वह महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । उनकी छोटी सी भूल से बड़ी समस्या हो सकती है जैसे किसी कलाकार की मंच पर धोती खुल जाना , नृत्य प्रस्तुति के समय गलत गाना बजा देना , गोली की आवाज़ के स्थान पर कुत्ते की आवाज़ कर देना आदि ।

प्रश्न 10 . उत्तर किसी भी क्षेत्र में संगतकार की पंक्ति वाले लोग प्रतिभावान होते हुए भी मुख्य या शीर्ष स्थान पर क्यों नहीं पहुँच पाते होंगे ?

उत्तर- किसी भी क्षेत्र में संगतकार की पंक्ति वाले लोग प्रतिभावान होते हुए भी शीर्ष स्थान पर इसलिए नहीं पहुँच पाते क्योंकि संगतकार मुख्य गायक के पीछे गाते हुए कभी अपने स्वर को ऊँचा नहीं जाने देता जिससे मुख्य गायक की तो प्रतिष्ठा बनी रहती हैं , लेकिन संगतकार स्वयं का हुनर प्रदर्शित नहीं कर पाने के कारण सदैव संगतकार ही बना रह जाता है ।

दूसरी तरफ मुख्य गायक भी संगतकार की पंक्ति वाले लोगों को शीर्ष स्थान पर नहीं पहुँचने देते । वे स्वयं आगे बढ़ते चले जाते हैं पर उनका साथ देने वाले सहयोगियों को वहीं छोड़ देते हैं ।

पाठेतर सक्रियता

प्रश्न 11. आप फिल्में तो देखते होंगे अपनी पसंद की किसी एक फिल्म के आधार पर लिखिए कि उस फिल्म की सफलता में अभिनय करने वाले कलाकारों के अतिरिक्त और किन – किन लोगों का योगदान रहा ?

उत्तर- छात्र स्वयं कोई अच्छी फिल्म देखकर इस प्रश्न का उत्तर दें ।

प्रश्न 12. आपके विद्यालय में किसी प्रसिद्ध गायिका की गीत प्रस्तुति का आयोजन है

( क ) इस सम्बन्ध में सूचना पट्ट के लिए नोटिस तैयार कीजिए ।

उत्तर-

Text, letter

Description automatically generated

( ख ) गायिका व उसके संगतकारों का परिचय देने के लिए आलेख ( स्क्रिप्ट ) तैयार कीजिए ।

उत्तर- भारत के सर्वोच्य सम्मानों में से एक पद्मभूषण से सम्मानित भारतीय शास्त्रीय संगीत की गायिका किशोरी अमोनकर का जन्म सन् 1931 में हुआ । इनकी माता श्रीमती मोंगूबाई कुर्दिकर भी एक महान् कलाकार थीं । किशोरी अमोनकर ने अपनी माता के गुरु उस्ताद अल्लादिया खाँ की शैली को अपनाया । वे अल्लादिया खाँ के ( जयपुर , अतरौली घराने ) की ओर उन्मुख हो गयीं । आगे चलकर उन्होंने स्वयं संगीत की एक अद्वितीय शैली का विकास किया । रागों के संसार की बात की जाए जैसा कि किशोरी अमोनकर कहती है –

‘ वह एक गहन चिन्तक हैं , बिल्कुल वैज्ञानिक की तरह , वह संगीत के रागों के उतार – चढ़ाव का बहुत ही निपुणता से विश्लेषण करती हैं ‘ ।

वह प्राचीन वैदिक ऋषियों की शिक्षाओं से बहुत प्रेरित रही हैं । उन्होंने मन को छूने वाले संगीत के मार्मिक गुण बौद्धिक विचारधारा के साथ मिलाकर रागों की अनेक पंक्तियाँ खड़ी कर दीं और एक बार फिर से ‘ ख्याल ‘ गायिकी के अध्ययन को पुनर्जीवित कर दिया ।

इन्हें संगीत अकादमी पुरस्कार ( 1985 ) , पद्म भूषण ( 1987 ) तथा भारतीय शास्त्रीय संगीत में सर्वाधिक प्रतिष्ठित पुरस्कार ‘ संगीत संवर्धनी पुरस्कार ‘ ( 1997 ) सहित अनके प्रमुख पुरस्कारों से सम्मानित किया गया ।

किशोरी अमोनकर जी के साथ सरोद पर संगत कर रहे हैं । उस्ताद अमजद अली खाँ तथा तबले पर उस्ताद अल्लारक्खा खाँ ये दोनों ही अपनी – अपनी कला में विशेषज्ञता प्राप्त किये हुए हैं तथा अनेक पुरस्कारों से सम्मानित हैं ।

 

एनसीईआरटी सॉल्यूशंस के लाभ

  • एनसीईआरटी के कक्षा 10 समाधान में अत्यंत महत्वपूर्ण बिंदु हैं, और प्रत्येक अध्याय के लिए, प्रत्येक अवधारणा को सरल बनाया गया है ताकि उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम प्राप्त करने की संभावनाओं को याद रखना और बढ़ाना आसान हो सके। परीक्षा की तैयारी के संदर्भ यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं कि ये समाधान आपको परीक्षा की तैयारी में कैसे मदद कर सकते हैं ।
  • यह छात्रों को प्रत्येक अध्याय में कई समस्याओं को हल करने में मदद करता है और उन्हें अपनी अवधारणाओं को और अधिक सार्थक बनाने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  • कक्षा 10 समाधानों के लिए एनसीईआरटी समाधान आपको अपने ज्ञान को अपडेट करने और अपनी अवधारणाओं को परिष्कृत करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ताकि आप परीक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त कर सकें।
  • ये समाधान सबसे अच्छी परीक्षा सामग्री हैं, जिससे आप अपने सप्ताह और अपनी ताकत के बारे में अधिक जानने की अनुमति देते हैं। परीक्षा में अच्छे परिणाम पाने के लिए जरूरी है कि आप अपनी कमजोरियों को दूर करें।
  • परीक्षा में ज्यादातर प्रश्न एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों के समान तरीके से तैयार किए जाते हैं । इसलिए, छात्रों को विषय को बेहतर ढंग से समझने के लिए प्रत्येक अध्याय में समाधानों की समीक्षा करनी चाहिए।
  • यह निशुल्क है।

 

कक्षा 10 परीक्षा की तैयारी के लिए टिप्स और रणनीतियां

  • अपने पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम की योजना बनाएं और संशोधन के लिए समय बनाएं
  • परीक्षा की तैयारी के लिए हर बार अपनी अवधारणाओं को स्पष्ट करने के लिए cbsestudyguru वेबसाइट पर उपलब्ध एनसीईआरटी समाधान का उल्लेख करें ।
  • परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करने के लिए सीखना शुरू करने के लिए cbsestudyguru लर्निंग ऐप का उपयोग करें। हल और अनसुलझे कार्यों सहित पूर्ण शिक्षण सामग्री प्रदान करें।
  • यह अपने शिक्षकों या एलेक्स (एक अल अध्ययन बॉट) के साथ परीक्षा से पहले अपने सभी संदेहों को स्पष्ट करने के लिए महत्वपूर्ण है ।
  • जब आप किसी चैप्टर को पढ़ते या पढ़ते हैं तो एल्गोरिदम फॉर्मूले, प्रमेय आदि लिखें और परीक्षा से पहले उनकी जल्दी समीक्षा करें ।
  • अपनी अवधारणाओं को मजबूत बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें।
  • आराम और उचित भोजन लें।  ज्यादा तनाव न करें।

कक्षा 10 के लिए सीबीएसस्टूडुगुरु एनसीईआरटी सॉल्यूशंस का विकल्प क्यों चुनते हैं?

  • cbsestudyguru अपनी उंगलियों पर सभी विषयों के लिए एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं ।
  • ये समाधान विषय विशेषज्ञों द्वारा डिजाइन किए गए हैं और एनसीईआरटी की हर पाठ्यपुस्तक प्रश्नों के समाधान प्रदान करते हैं।
  • cbsestudyguru विशेष रूप से सीखने को इंटरैक्टिव, प्रभावी और सभी वर्गों के लिए बनाने पर केंद्रित है।
  • हम कक्षा 10 और अन्य सभी कक्षाओं के लिए मुफ्त एनसीईआरटी समाधान प्रदान करते हैं।

Leave a Comment