Class 9 Beehive Chapter 8 Poem On Killing A Tree Summary

Class 9 Beehive Chapter 8 Poem On Killing A Tree Summary

Beehive Chapter 8 Poem On Killing A Tree Summary

Class 9 Beehive Chapter 8 Poem On Killing A Tree Summary, (English) exams are Students are taught thru NCERT books in some of the state board and CBSE Schools. As the chapter involves an end, there is an exercise provided to assist students to prepare for evaluation. Students need to clear up those exercises very well because the questions inside the very last asked from those.

Sometimes, students get stuck inside the exercises and are not able to clear up all of the questions.  To assist students, solve all of the questions, and maintain their studies without a doubt, we have provided step by step summary for the students for all classes.  These summary will similarly help students in scoring better marks with the assist of a properly illustrated summary as a way to similarly assist the students and answering the questions right.

Class 9 Beehive Chapter 8 Poem On Killing A Tree Summary

Theme

The poet in his poem, ‘On Killing a Tree’ is explaining very vivdly the process of destruction of nature. He is emphasising the predicament we will eventually face, if we continue in this manner.

The idea presented is therefore, deforestation leading to disaster, and the need for afforestation is implied. This poem highlights a lot of morals. Firstly, it displays the destructive nature of humans. Secondly, it shows that Mother Nature is inevitable and cannot be easily destroyed. Thirdly, the tree is a symbol of mankind. It says that human life is not so easy to end. If we cut the fingers or the skin, then we do not die. It is the heart that should be cut-out. This is the main theme of the poem. The poem is very short. But it slashes out a scar in our minds.

Summary

The poem begins ironically, describing the crime committed by the tree. For years, it has consumed the earth’s crust. Like a thief, it has absorbed sunlight, air, and water and has grown up like a giant. So the tree must be killed. But it is not an easy task. A simple jab of the knife will not do it. From close to the ground, it will rise up again and grow to its former size. It will again become a threat to man. So the tree should be tied with a rope and pulled out entirely. Its white, bleeding root should be exposed. Then it should be browned and hardened and twisted and withered and it is done. The poem gives a realistic picture of man’s attitude towards trees. The tree is his greatest friend. But man is so foolish that he doesn’t realise the fact that he is cutting his own throat when he cuts a tree. The poet depicts violence literally and non-violence ironically.

The root of the tree is like the love that is essential for human beings to survive. This love is given to us by our parents who take years to nurture us into strong individuals. If this love is chopped off, the giver that is the parents, wither, decay, and go into oblivion.

In Hindi

विषय

कवि ने अपनी कविता में कहा, ‘एक पेड़ की हत्या पर’ प्रकृति के विनाश की प्रक्रिया को बहुत ही स्पष्ट रूप से समझा रहा है। यदि हम इस प्रकार से जारी रखते हैं तो वह इस बात पर जोर दे रहे हैं कि हम अंतत सामना करेंगे ।

इसलिए प्रस्तुत विचार है, वनों की कटाई आपदा के लिए अग्रणी है, और वनीकरण के लिए की जरूरत निहित है । यह कविता बहुत नैतिकता पर प्रकाश डालती है। सबसे पहले, यह मनुष्यों की विनाशकारी प्रकृति को प्रदर्शित करता है। दूसरे, इससे पता चलता है कि मां प्रकृति अपरिहार्य है और आसानी से नष्ट नहीं किया जा सकता है । तीसरा, पेड़ मानव जाति का प्रतीक है। इसमें कहा गया है कि मानव जीवन को खत्म करना इतना आसान नहीं है। अगर हम उंगलियों या त्वचा को काटते हैं, तो हम मरते नहीं हैं। दिल को काटकर बाहर निकाला जाना चाहिए। यह कविता का मुख्य विषय है। कविता बहुत कम है। लेकिन यह हमारे मन में एक निशान स्लैश ।

सारांश

कविता विडंबना यह है कि पेड़ द्वारा किए गए अपराध का वर्णन शुरू होता है । सालों से इसने धरती की पपड़ी का सेवन किया है। चोर की तरह इसने सूरज की रोशनी, हवा और पानी को अवशोषित कर लिया है और एक विशालकाय की तरह बड़ा हो गया है । इसलिए पेड़ को अवश्य मार दिया जाना चाहिए। लेकिन यह कोई आसान काम नहीं है। चाकू का एक साधारण प्रहार ऐसा नहीं करेगा। जमीन के करीब से, यह फिर से उठकर अपने पूर्व आकार में बढ़ेगा। यह फिर से मनुष्य के लिए खतरा बन जाएगा। इसलिए पेड़ को रस्सी से बांधकर पूरी तरह से बाहर निकाला जाना चाहिए। इसकी सफेद, रक्तस्राव जड़ को उजागर किया जाना चाहिए। फिर इसे भूरा और कठोर और मुड़ जाना चाहिए और मुरझा जाना चाहिए और यह किया जाता है। कविता पेड़ों के प्रति मनुष्य के दृष्टिकोण की यथार्थवादी तस्वीर देती है। पेड़ उसका सबसे बड़ा दोस्त है। लेकिन मनुष्य इतना मूर्ख है कि उसे इस बात का एहसास नहीं होता कि जब वह एक पेड़ काटता है तो वह अपना ही गला काट रहा होता है। कवि हिंसा को शाब्दिक और अहिंसा को विडंबनापूर्ण ढंग से दर्शाता है।

पेड़ की जड़ उस प्रेम की तरह है, जो मनुष्य के लिए जीवित रहने के लिए आवश्यक है। यह प्यार हमारे माता-पिता द्वारा हमें दिया जाता है जो हमें मजबूत व्यक्तियों में पोषित करने में वर्षों लग जाते हैं । अगर यह प्यार कटा हुआ है तो जो दाता माता-पिता है, मुरझा जाता है, क्षय होता है और गुमनामी में चला जाता है।

Leave a Comment